इस बच्चे की वजह से शुरू हुआ वीरता पुरुस्कार, पंडित नेहरू समेत 100 लोगों की बचाई थी जान

वारदात 2 अक्टूबर, 1957 की है. जब गांधी जयंती के मौके पर देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू, दिल्ली के रामलीला मैदान में प्रदर्शन देख रहे थे.

इस बच्चे की वजह से शुरू हुआ वीरता पुरुस्कार, पंडित नेहरू समेत 100 लोगों की बचाई थी जान
फाइल फोटो

नई दिल्ली: टेंट में लगी आग थी, उस आग में देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू समेत करीब 100 लोगों की जान फंसी हुई थी. चारों तरफ अफरा-तफरी का माहौल था. तब एक 14 साल के बच्चे ने बहादुरी दिखाई और ऐसी बहादुरी दिखाई कि वो भविष्य के लिए बहादुरी की मिसाल बन गई. इसी मिसाल ने वीरता और राष्ट्रीय बाल पुरस्कारों को शुरुआत की. आइए जानते हैं पहले वीरता पुरस्कार जीनते वाले हरिश्चंद्र मेहरा की कहानी...

यह भी पढ़ें: अब अपने ही क्षेत्र में कहीं से भी कर सकेंगे वोटिंग, इलेक्शन कमीशन ने बनाया प्लान

वारदात 2 अक्टूबर, 1957 की है. जब गांधी जयंती के मौके पर देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू, दिल्ली के रामलीला मैदान में प्रदर्शन देख रहे थे. नेहरू उस वक्त कुछ विदेशी मेहमानों के साथ आतिशबाजी का आनंद ले रहे थे. तभी कुछ चिंगारियों की वजह से टेंट में आग लग गई. इस प्रोग्राम में मौजूद 14 साल के हरिश्चंद्र मेहरा (Harish Chandra Mehra) बिना सोचे टेंट की पोल पर चढ़ गए. अपनी स्कॉउट चाकू की मदद से शामियाने को फाड़कर लोगों को बाहर निकालने की जगह बनाई. 14 साल के बच्चे की बहादुरी से आग में फंसे प्रधानमंत्री समेत 100 लोगों की जान बच गई. 

यह भी पढ़ें: एक विवाह ऐसा भी: दिल वाले दुल्हनियां लेने पहुंचे, रोते-रोते वापस लौटे

तीन मूर्ति भवन में किया गया सम्मानित
इस वारदात के बाद हरिश्चंद्र मेहरा देश के लिए हीरो बन गए. कुछ दिनों बाद जगजीवन सिंह (तब के रेल मंत्री) ने उन्हें एक सर्टिफिकेट दिया. पीएम नेहरू ने भी कहा कि ऐसे बच्चों को सम्मानित किया जाना चाहिए. वारदात के तीन महीने बाद हरिश्चंद्र को बताया गया कि उन्हें वीरता पुरस्कार मिल रहा है. इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, 4 फरवरी 1958 को एक स्पेशल प्रोग्राम रखा गया. तीन मूर्ति भवन में पीएम नेहरू ने उन्हें सम्मानित किया. इतना ही नहीं 26 जनवरी 1959 को हरिश्चंद्र देश के पहले आम नागरिक भी बने, जो गणतंत्र दिवस की परेड में शामिल हुए. उन्हें हाथी पर बैठाकर घुमाया गया. 

यह भी पढ़ें: 2 दिन की बच्ची को दुपट्टे में बांधकर सीवर के होल फेंका, फिर इस तरह बची जान

गुमनाम हो गए हरिश्चंद्र
इस अवॉर्ड के बाद धीरे-धीरे हरिश्चंद्र गुमनाम हो गए. उनके परिवार को आर्थिक तंगी ने घेर लिया. पढ़ाई छोड़नी पड़ी. हालांकि, वह आगे चलकर UPSC में बतौर क्लर्क काम करने लगे. बाद में कंट्रोलर ऑफ पब्लिकेशन में उनका तबादला कर दिया गया. जानकारी के मुताबिक, साल 2004 में हरिश्चंद्र रिटायर हो गए.

यह भी पढ़ें: गणतंत्र दिवस के दिन तिरंगा फहराकर रखी जाएगी धन्नीपुरा मस्जिद की बुनियाद, जानें खासियत

ZEE SALAAM LIVE TV