किसान आंदोलन पर बोला सुप्रीम कोर्ट: तबलीगी जमात जैसे हालात हो सकते हैं

42 दिनों से दिल्ली के बॉर्डर जारी किसानों के आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए सवाल किया कि क्या प्रोटेस्ट के दौरान कोरोना नियमों का पालन किया जा रहा है?

किसान आंदोलन पर बोला सुप्रीम कोर्ट: तबलीगी जमात जैसे हालात हो सकते हैं
फाइल फोटो

नई दिल्ली: 42 दिनों से दिल्ली के बॉर्डर जारी किसानों के आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए सवाल किया कि क्या प्रोटेस्ट के दौरान कोरोना नियमों का पालन किया जा रहा है? इसके बाद केंद्र सरकार के वकील ने नहीं में जवाब दिया. 

यह भी पढ़ें: अमेरिका मां उपराष्ट्रपति की कुर्सी और स्पीकर के आसन पर Trump के दंगाई समर्थकों का कब्जा

जिस पर चीफ जस्टिस एसए बोबड़े ने कहा कि अगर कोरोना नियमों का पालन नहीं किया गया तो नई दिल्ली में पिछले साल हुए तबलीगी जमात के तरह हालात हो सकते हैं. सरकार को बड़े पैमाने होने वाले जमावड़े को लेकर सरकार को खास हिदायात जारी करनी चाहिए. 

यह भी पढ़ें: इरफान के जन्मदिन पर बेटे बाबिल ने किए कई खुलासे, लिखा,"आज आपका बर्थडे है बाबा..."

बता दें कि पिछले साल मुल्क में जब लॉकडाउन नाफिज़ हुआ था तो दिल्ली के निज़ामुद्दीन में सैंकड़ो तबीलीगी जमाती मौजूद थे. जो बाद में मुल्क अलग-अलग राज्यों में गए. इनमें से कुछ जमाती पॉजिटिव भी पाए गए थे. जिसके बाद से तबलीगी जमात लोगों के निशाने पर आ गई थी और कई अदालतों में जमातियों के खिलाफ केस भी दर्ज हुए. हालांकि ज्यादा तक अदालतों ने उन्हें बरी कर दिया है. 

यह भी पढ़ें: बिहार में खुद के अंतिम संस्कार के लिए बैंक से पैसे निकालने पहुंचा मुर्दा, जानिए क्या थी मजबूरी

करीब डेढ़ महीने से जारी इस किसान प्रोटेस्ट को लेकर सरकार और किसानों के दरमियान 7 दौर की बातें हो गई हैं लेकिन अभी तक इत्तेफाक राए नहीं बन पाई. किसानों की मांग है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए कानूनी गारंटी दी जाए और तीनों नए कृषि कानूनों को रद्द किया जाए.

ZEE SALAAM LIVE TV