188 दिनों के बाद खुले ताज महल और आगरा किले के दरवाज़े, इन शर्तों पर मिलेगी एंट्री

इस दौरान ताज महल में एक दिन में सिर्फ 5000 सय्याहों को और आगरा किला में 2500 सय्याहों को एंट्री मिलेगी. साथ ही कोरोना वायरस की गाइडलाइन पर सख्ती अमल करना होगा.

188 दिनों के बाद खुले ताज महल और आगरा किले के दरवाज़े, इन शर्तों पर मिलेगी एंट्री
फाइल फोटो

आगरा: कोरोना महामारी की वजह से गुज़िश्ता 17 मार्च से बंद ताज महल और आगरा किला पीर से सय्याहों (टूरिस्ट) को लिए फिर से खोल दिए गए हैं. एएसआई (Archaeological Survey of India) के अफसरों ने इन दोनों मकामत को फिर से खोलने के लिए सभी जरूरी इंतजाम कर लिए हैं.

इस दौरान ताज महल में एक दिन में सिर्फ 5000 सय्याहों को और आगरा किला में 2500 सय्याहों को एंट्री मिलेगी. साथ ही कोरोना वायरस की गाइडलाइन पर सख्ती अमल करना होगा. दोनों यादगारों (स्मारकों) में टिकट विंडो बंद रहेंगे, सय्याहों को ऑनलाइन ही टिकट बुक कराना होगा. क्यूआर कोड को स्कैन करके भी टिकट लिया जा सकता है. 

कब कब बंद रहे ताजमहल
ताज महल की तारीख में यह पहली बार हुआ है जब इस तारीखी यादगार दरवाजे सय्याहों के लिए इतने दिनों (188 दिनों) तक बंद रहे. जानकारों के मुताबिक ताज महल की तामीर 1632 से 1648 के बीच हुआ. पहली बार साल 1971 में भारत-पाकिस्तान जंग के दौरान ताजमहल 15 दिन के लिए बंद रहा था. इसके बाद 1978 में यमुना में आई बाढ़ की वजह से 7 दिनों के लिए इस विश्व अजूबे को बंद किया गया था.

Zee Salaam LIVE TV