DM ने भरी सभा में छू दिए CM के पांव, मच गया बवाल, राष्ट्रपति के पास पहुंची शिकायत

कांग्रेस नेता मोहम्मद अली शब्बीर ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और केंद्र को लिखे पत्र में सार्वजनिक रूप से केसीआर के पैर छूने पर सिद्दीपेट और कामारेड्डी के जिलाधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की.

DM ने भरी सभा में छू दिए CM के पांव, मच गया बवाल, राष्ट्रपति के पास पहुंची शिकायत
सार्वजनिक रूप से केसीआर के पैर छूते हुए कलेक्टर

हैदराबादः तेलंगाना में एक आधिकारिक समारोह के दौरान दो जिला अधिकारियों के जरिए राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) के पांव छूने की घटना ने तूल पकड़ लिया है. विपक्ष ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को चिट्ठी लिखकर दोनों जिलाधिकारियों के खिलाफ सख्त कदम उठाने की मांग की है. कांग्रेस नेता मोहम्मद अली शब्बीर ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और केंद्र को लिखे पत्र में सार्वजनिक रूप से केसीआर के पैर छूने पर सिद्दीपेट और कामारेड्डी के जिलाधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. उन्होंने कहा कि तेलंगाना राज्य के सिद्दीपेट के जिलाधिकारी पी वेंकटराम रेड्डी और कामारेड्डी के जिलाधिकारी डॉ. ए शरद ने अखिल भारतीय सेवा (आचरण) नियम, 1968 का उल्लंघन किया है.

राष्ट्रपति को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग 
शब्बीर ने इल्जाम लगाया है कि 20 जून 2021 को जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय परिसरों के उद्घाटन के मौके पर दोनों अफसरान ने सार्वजनिक रूप से मुख्यमंत्री के पैर छुए थे. उन्होंने राष्ट्रपति से उनके व्यवहार का संज्ञान लेने और जरूरी कार्रवाई करने का मुतालबा करते हुए कहा है कि दोनों जिलाधिकारियों ने सार्वजनिक समारोह में मुख्यमंत्री के पैर छूकर संविधान का अपमान किया और राजनीतिक पदाधिकारियों की तरह व्यवहार किया है. उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने अपने कृत्यों से गलत संदेश दिया है और एक राजनीतिक पदाधिकारी मुख्यमंत्री के सामने झुककर गलत मिसाल कायम की है.

नेता का पांव छूना अखिल भारतीय सेवा नियम का उल्लंघन 
शब्बीर ने अपने पत्र में कहा कि अखिल भारतीय सेवा (आचरण) नियम, 1968 की धारा तीन (दो) साफ तौर से कहती है कि ‘‘सेवा का प्रत्येक सदस्य राजनीतिक तटस्थता बनाए रखेगा’’. इस पत्र की एक प्रति केंद्रीय कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह को भी भेजी गई है. मुख्यमंत्री तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष भी हैं, इसलिए जिलाधिकारियों ने झुककर और उनके पैर छूकर आम लोगों को संदेश दिया है कि उनका झुकाव सत्ताधारी पार्टी की तरफ है. 

डीएम ने पेश की थी अपनी सफाई 
वेंकटराम रेड्डी ने घटना के दिन एक बयान जारी कर सीएम के पांव छूने को सही ठहराते हुए कहा था कि केसीआर उनके लिए एक पिता की तरह हैं. उन्होंने बयान में कहा था कि शुभ अवसरों पर बड़ों का आशीर्वाद लेना तेलंगाना की संस्कृति का हिस्सा है. मैं जब नए कलेक्टर कार्यालय में कार्यभार संभाल रहा था, तब मैंने मुख्यमंत्री का आशीर्वाद लिया, जो मेरे लिए पिता के समान हैं. रेड्डी ने इसे मुद्दा न बनाने की अपील की थी और कहा था कि उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि 20 जून को को फादर्स-डे भी था.

Zee Salaam Live Tv