AIMIM जिलासद्र समेत 3 लोगों के खिलाफ NSA की कार्रवाई

भदोही में सीएए के खिलाफ़ मुज़ाहिरे के दौरान तशद्दुद मामले में AIMIM ज़िला सद्र समेत 3 के खिलाफ़ NSA की कार्रवाई

AIMIM जिलासद्र समेत 3 लोगों के खिलाफ NSA की कार्रवाई

भदोही : यूपी के भदोही में 20 दिसंबर को शहरियत तरमीमी कानून (CAA) के खिलाफ़ हो रहे मुज़ाहिरे के दौरान हुए तशद्दुद के मामले में दंगाइयों के खिलाफ NSA की कार्रवाई की गई. भदोही के AIMIM ज़िला सद्र समेत 3 लोगों के खिलाफ NSA यानी कौमी सिक्योरिटी कानून (NSA) के तहत कार्रवाई की गई है. एनएसए की एडवाइजरी बोर्ड ने इसकी इजाज़त दी है. दरअसल मामला 20 दिसंबर का है जब शहर में दफा 144 नाफिज़ हुई थी. इल्ज़ाम है कि दफ़ा 144 नाफिज़ होने के बावजूद मुल्ज़िमीन ने शदीद भीड़ के साथ CAA के मुखालिफत में जुलूस निकाला. उसी दौरान भीड़ बेकाबू हो गई और तभी कुछ लोगों ने पुलिस पर पथराव किया और जम कर दंगा किया. बता दें कि इस तशद्दुद में एक SHO समेत 6 पुलिस वाले ज़ख्मी हो गए थे.

NSA के तहत कार्रवाई में तीन एआईएमआईएम (AIMIM) के ज़िला सद्र तनवीर हयात भी शामिल हैं. बता दें कि यूपी के भदोही में जुमे की नमाज़ के बाद सीएए के खिलाफ़ में जुलूस निकालने को लेकर भड़के तशद्दुद और दंगे के मामले में पुलिस ने अहम साजिशकर्ता समेत 39 को गिरफ्तार किया. गिरफ्तार मुल्ज़िमीन में असद्दुदीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के ज़िला सद्र तनवीर हयात खान और यूथ कमिटी के जिलाध्यक्ष भी शामिल थे, तशद्दुद करने के इल्ज़ाम में गिरफ्तार 15 लोगों को जेल भेजा गया. पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार एआईएमआईएम के ज़िला सद्र तनवीर हयात खान और उसके यूथ कमिटी के ज़िला सद्र ताबिश पूरे मामले के मास्टरमाइंड है. तनवीर ने ही लोगों को मुखालिफत में जुलूस निकालने के लिए इकट्ठा किया था और लोगों से कहा था कि जो होगा वह देख लेगा.

पुलिस ने तशद्दुद और बग़ैर इजाज़त मुखालिफ मुज़ाहिरे करने के इस मामले में बड़ी तादाद में नामालूम लोगों समेत कुछ लोगों के खिलाफ नामजद FIR की थी. मामले में AIMIM के ज़िला सद्र तनवीर हयात समेत ताबिश आर्यान और सायम वासिक अंसारी को अहम मुल्ज़िम बनाया गया. मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने बड़ी तादाद में मुल्ज़िमीन की धरपकड़ भी की.

इस मामले में भदोही के डीएम ने बताया, "इन तीनों के खिलाफ, NSA लगाया गया था 12 जनवरी 2020 को हम लोगों ने हुकूमत को रिपोर्ट भेजी जिस पर एडवाइजरी बोर्ड की 11 फरवरी को मीटिंग हुई थी. 24 तारीख को मज़कूरा तीनों मुल्ज़िमीन के खिलाफ़ NSA लगाने की इजाज़त दे दी". डीएम ने बताया कि तीनों अहम मुल्ज़िमीन ने ही भीड़ को उकसाया था इसलिए उनके खिलाफ़ सख्त कार्रवाई की गई.

गौरतलब है कि जुमे के नमाज़ के बाद भारी तादाद में निकाले गए जुलूस में शामिल लोगों को जब पुलिस ने रोकने की कोशिश की थी. जब पुलिस ने हल्का बल इस्तेमाल किया तो भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया. मामला बिगड़ता देख पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा था. इसके बाद पुलिस ने वीडियो फुटेज की बुनियाद पर 39 लोगों को गिरफ्तार किया था. इस मामले में पुलिस ने 27 नामजद और 200 नामालूम लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया.

NSA लगने के बाद AIMIM के ज़िला सद्र तनवीर हयात और उनके साथियों की मुश्किलें बढ़नी तय मानी जा रही है. भड़काऊ बयान के ज़रिए अक्सर तनाज़ों में रहने वाले असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM पूरे मुल्क में और खासकर उत्तर प्रदेश में शहरियत तरमीमी एक्ट के खिलाफ मुज़ाहिरे का इनेकाद कर रही है. माना जा रहा है कि AIMIM मुज़ाहिरे को भड़का कर यूपी में अपना जनाधार बढ़ाना चाहती है ताकि आने वाले इंतेखाबात में उसे फायदा मिल सके. हालांकि भदोही में AIMIM के ज़िला सद्र पर NSA यानी कौमी सिक्योरिटी कानून के तहत कार्रवाई कर इंतेज़ामिया ने तशद्दुद करने वालों को सख्त पैगाम दिया है.