जानिए कौन हैं स्नेहा दुबे? UNGA में इमरान खान को गिरेबान में झांकने पर किया मजबूर
X

जानिए कौन हैं स्नेहा दुबे? UNGA में इमरान खान को गिरेबान में झांकने पर किया मजबूर

पूरी दुनिया के सामने पाकिस्तान को आईना दिखाने वाली स्नेहा दुबे (Sneha Dubey) ने पहली ही कोशिश में UPSC में कामयाबी हासिल की थी. 

जानिए कौन हैं स्नेहा दुबे? UNGA में इमरान खान को गिरेबान में झांकने पर किया मजबूर

नई दिल्ली: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने एक बार फिर भारत के अटूट हिस्से 'कश्मीर' के मुद्दे को दुनिया के सबसे बड़े मंच संयुक्त राष्ट्र महासभा पर उठाया. हालांकि संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे (Sneha Dubey) ने इमरान के एक-एक झूठ की बड़े ही सलीके से पोल खोली और एक बार फिर इमरान खान से अपने गिरेबान में झांकने को मजबूर कर दिया. तो आइए जानते हैं भारत की उस बेटी के बारे में जानते हैं जिसने दुनिया के सबसे बड़े मंच पर भारत की बात रखी. 

पूरी दुनिया के सामने पाकिस्तान को आईना दिखाने वाली स्नेहा दुबे (Sneha Dubey) ने पहली ही कोशिश में UPSC में कामयाबी हासिल की थी. घूमने की शौकीन स्नेहा गोवा में पली-बढ़ीं स्नेहा हमेशा से इंडियन फॉरन सर्विस जॉइन करना चाहती थीं. स्नेहा का मानना है कि IFS बनकर उन्हें देश का प्रतिनिधित्व करने का सबसे बेहतरीन मौका मिला है. उनका कहना था कि वो सिर्फ सिविल सर्विस करना चाहती थीं और उनके पास कोई दूसरा प्लान भी नहीं था.

स्नेहा दुबे की पढ़ाई
➤ स्नेहा ने पुणे के फर्ग्यूसन कॉलेज से ग्रैजुएशन किया
➤ उसके बाद नई दिल्ली की जवाहरलाल यूनिवर्सिटी से जियॉग्रफी में मास्टर्स की पढ़ाई की.
➤ अंतरराष्ट्रीय मुद्दों में दिलचस्पी के चलते उन्होंने JNU में ही स्कूल ऑफ इंटरनैशनल स्टडीज में एमफिल की पढ़ाई पूरी की.
➤ साल 2011 में पहले ही कोशिश में सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास की थी.

UNGA में क्या बोली स्नेहा
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के बयान के बाद स्नेहा दुबे (Sneha Dubey) ने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के आंतरिक मामलों को दुनिया के मंच पर लाने और झूठ फैलाकर प्रतिष्ठित मंच की छवि खराब करने की कोशिश की है. स्नेहा ने आगे कहा कि दुनियाभर में माना जाता है कि पाकिस्तान आतंकवादियों का खुले तौर पर समर्थन करता है और उन्हें हथियार मुहैया करवाता है. साथ ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के ज़रिए प्रतिबंधित आतंकवादियों को रखने का घटिया रिकॉर्ड पाकिस्तान के पास है. स्नेहना बताया कि ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान में पनाह मिली. आज भी पाकिस्तानी नेतृत्व उसे 'शहीद' कहकर महिमामंडित करता है. पाकिस्तान आतंकवादियों को इस उम्मीद में पालता है कि वे केवल उसके पड़ोसियों को नुकसान पहुंचाएंगे.

"जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत का अटूट हिस्सा"
स्नेहा दुबे ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के अभिन्न और अविभाज्य अंग थे, हैं और हमेशा रहेंगे. इसमें वो क्षेत्र भी शामिल हैं जिसपर पाकिस्तान के अवैध कब्जे हैं. हम पाकिस्तान से उसके अवैध कब्जे वाले सभी क्षेत्रों को तुरंत खाली करने का आह्वान करते. भारत ने आगे कहा कि हम सुनते आ रहे हैं कि पाकिस्तान ‘‘आतंकवाद का शिकार’’ है. लेकिन यह आग से लड़ने वाले के भेष में आग लगाने वाला देश है. पाकिस्तान के लिए बहुलवाद को समझना बहुत मुश्किल है जो अपने अल्पसंख्यकों को सरकार में उच्च पदों की आकांक्षा रखने से रोकता है.

ZEE SALAAM LIVE TV

Trending news