कौन था करीम लाला, जिसके नाम ने मची दी सियासत में सनसनी

मुंबई का अंडरवर्ल्ड डॉन पठान गैंग का सरबराह करीम लाला फिर से सुर्खियों में छा गया है. बुध को शिवसेना के सीनियर लीडर संजय राउत ने साबिक वज़ीरे आज़म इंदिरा गांधी की अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला से मुलाकात की बात कहकर सियासत में सनसनी मचा दी. तो आइये जानते हैं आख़िर कौन था ये अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला जिसका नाम इंदिरा गांधी के साथ जुड़ने पर सियासत गर्मा गयी.

कौन था करीम लाला, जिसके नाम ने मची दी सियासत में सनसनी

मुंबई का अंडरवर्ल्ड डॉन पठान गैंग का सरबराह करीम लाला फिर से सुर्खियों में छा गया है. बुध को शिवसेना के सीनियर लीडर संजय राउत ने साबिक वज़ीरे आज़म इंदिरा गांधी की अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला से मुलाकात की बात कहकर सियासत में सनसनी मचा दी. तो आइये जानते हैं आख़िर कौन था ये अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला जिसका नाम इंदिरा गांधी के साथ जुड़ने पर सियासत गर्मा गयी.

करीम लाला एक पश्तून परिवार से था और उसकी पैदाइश अफगानिस्तान में हुयी थी. करीब 21 साल की उम्र में काम काज की तलाश करते करते भारत आया था. करीम लाला का असली नाम अब्दुल करीम शेर खान था, कहा जाता है कि साल 1930 में मुंबई पहुंचकर पहले उसने छोटे मोटे काम करने शुरू किए लेकिन ज़्यादा दिनों तक उसे ये काम पसंद नहीं आए. वो जल्दी और ज्यादा पैसा कमाना चाहता था, पैसे का यही लालच उसे जुर्म की दुनिया में खींच लाया.

सबसे पहले उसने सोशल क्लब नाम से जुए का अड्डा खोला, इस क्लब में कई नामी लोगों का आना-जाना शुरू हुआ, जहां उसकी पैसे वालों से जान पहचान बनने लगी और जुए के साथ शराब की दुकाने भी चलाने लगा. करीम लगभग 35 साल की उम्र तक अच्छा खासा अमीर हो चुका था. जिसके बाद उसने पीछे मुड़कर नहीं देखा औऱ मुंबई का डॉन बन गया.

यहाँ तक कि एक किस्सा यह भी मशहूर है कि करीम लाला इतना ताकतवर बन चुका था कि उसने एक मरतबा दाऊद इब्राहिम को लात घूंसो से पीटा था, उस वक्त दाऊद अपनी जान बचाकर भाग गया. दोनों के बीच बड़ी दुश्मनी थी और कुछ वक्त बाद मुंबई पुलिस के डेट कॉन्सटेबल इब्राहिम कासकर के दो बेटे दाऊद और शब्बीर इब्राहिम हाजी मस्तान की गैंग से जुड़ गए और करीम लाला के इलाके में तस्करी का धंधा शुरू कर दिया, करीम लाला को ये रास नहीं आया और दाऊद को सबक सिखाने के लिए दाऊद के भाई शब्बीर का कत्ल कर दिया था जिसके बदले में साल 1986 में दाऊद इब्राहिम ने करीम लाला के भाई रहीम खान का कत्ल कर दिया था.

करीम लाला के पास उस वक्त बे शुमार दौलत थी और वो गरीबों की बहुत मदद करता था, वो अवाम के मसायल हल करने के लिये दरबार भी तगाता था. इतना ही नही बॉलीवुड के बड़-बड़े सुपर स्टार के साथ करीम लाला के रिश्ते थे. कोई परेशानी होने पर अदाकार और आदाकारायें उनके पास पहुचते थे. 

उस वक्त के सबसे बड़े डान हाजी मस्तान ने करीम लाला को अपने साथ ले लिया था और उसी ज़माने में इस दुनिया में दाऊद् इब्राहीम ने भी कदम रख दिया था. जिसके बाद करीम और दाऊद की गैंग मे जमकर गैंगवार होने लगी और इस गैंगवार में दाऊद भारी पड़ता गया जिसके बाद उसने मुंबई पर अपना कब्ज़ा करने का आग़ाज कर दिया. दोनों की दुश्मनी के बीच बहुत लोग मारे गये, करीम लाला भी बीमार रहने लगा और 90 साल की उम्र में करीम लाला की मौत हो गयी