इजराइल ने फिर किए गाजा पट्टी पर हमला, तुर्की के राष्ट्रपति इरदुगान ने दी यह बड़ी वार्निंग

हालांकि कहा जा रहा है कि इजराइल अपने डिफैंस सिस्टम में हमास के हमलों को नाकाम बना देता है, यानी रॉकेट को आसमानों में ही खत्म कर देता है. 

इजराइल ने फिर किए गाजा पट्टी पर हमला, तुर्की के राष्ट्रपति इरदुगान ने दी यह बड़ी वार्निंग
फाइल फोटो

नई दिल्ली: इजरायल और फिलिस्तीन के दरमियान कशीदगी कम होने का नाम नहीं ले रही है. जानकारी के मुताबिक इजरायल ने एक बार फिर गाजा पट्टी पर ताबड़तोड़ हमलने करने शुरू कर दिए हैं. जानकारी के मुताबिक गुज़िश्ता रात इजरायल के विमानों ने करीब 10 मिनट तक बम बरसाए. करीब पिछले एक हफ्ते से जारी यह जंग थमने का नाम नहीं ले रही है. इजराइल ने आरोप लगाया है कि हमास ने पिछले एक हफ्ते में 3100 के करीब राकेट हमले किए हैं. 

एक बड़े इलाके पर भयानक बमबारी हुई और यह 24 घंटे पहले हुए हवाई हमले से भी भयानक थी जिसमें 42 फलस्तीनियों की मौत हो गयी थी. इजराइल और हमास तंजीम के बीच हिंसा की इस हालिया घटना से पहले इजराइल के हवाई हमले में तीन इमारतें तबाह हो गयी थीं.

स्थानीय मीडिया की खबरों में कहा गया है कि शहर के पश्चिम में मुख्य तटीय सड़क पर सुरक्षा परिसर और खुले स्थान सोमवार सुबह के हमले में निशाना बने. बिजली वितरण कंपनी ने बताया कि हवाई हमले में दक्षिणी गाजा सिटी के बड़े हिस्सों को बिजली पहुंचाने वाले एकमात्र संयंत्र से बिजली की एक लाइन नुकसानदह हो गयी. हालांकि हताहतों को लेकर तत्काल कोई सूचना नहीं है.

रविवार को टेलीविजन पर प्रसारित संबोधन में नेतन्याहू ने कहा था कि इजराइल पूरे "दम खम" से हमला जारी रखे हुए है और यह कुछ समय तक जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि हमास को "भारी कीमत चुकानी होगी" इस दौरान एकजुटता दिखाने के लिए रक्षा मंत्री और राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी बेन्नी बेन्नी गैंट्ज भी उनके साथ थे.

हालांकि कहा जा रहा है कि इजराइल अपने डिफैंस सिस्टम में हमास के हमलों को नाकाम बना देता है, यानी रॉकेट को आसमानों में ही खत्म कर देता है. इसको लेकर इजरायल में मौजूद फिलिस्तीनियों के विरोध का भी सामना करना पड़ रहा है. वेस्ट बैंक में फिलिस्तीन हिमायती इजरायल के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं. हालात ये हैं कई शहरों में दंगे फैल चुके हैं और उनकी फौज झड़पें हो रही हैं. 

रजब तैयब इरदुगान ने दी धमकी
फिलिस्तीन की हिमायत और इजरायल के खिलाफ कई मुस्लिम मुल्क इकट्ठा हो गए हैं. इनमें तुर्की, पाकिस्तान, सऊदी अरब समेत कई देश शामिल हैं. इनमें भी सबसे आगे तुर्की को देखा जा रहा है. तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब इरदुगान ने इजरायल को धमकी देते हुए कहा,"'सीरियाई सरहद के पास जिस तरह दहशतगर्दों का रास्ता रोका. उसी तरह मस्जिद-ए-अक़्सा की जानिब बढ़ते हुए हाथों को भी तोड़ देंगे."

OIC की मीटिंग में हो सकता है बड़ा फैसला:
इस कशीदगी को लेकर मुस्लिम देशों के सबसे बड़े संगठन ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑप्रेशन (OIC) की मीटिंग होने जा रही है. 57 मुस्लिम देशों वाले इस संगठन की मीटिंग में मौजूद सभी नुमाइंदे इजरायल के खिलाफ कोई बड़ी हिकमे अमली बना सकते हैं. इजरायल के खिलाफ न सिर्फ मुस्लिम देश बल्कि कुछ अन्य देशों में भी इसके खिलाफ आवाज उठ रही है. स्पेन की सड़कों पर लोगों ने फिलिस्तीन की हिमायत में प्रोटेस्ट किया. कनाडा और फ्रांस में भी मुस्लिम धर्म के लोगों ने इजरायल के खिलाफ रैली निकाली. 

ZEE SALAAM LIVE TV