महात्मा गांधी के पड़पोते सतीश धुपेलिया का इंतेकाल, निमोनिया के बाद हो गया था कोरोना

सतीश धुपेलिया की बहन उमा धुपेलिया ने इस बात की तस्दीक की और बताया कि उनके भाई को कोविड-19 से संबंधित पेचीदगियों के चलते मौत हो गई है. 

महात्मा गांधी के पड़पोते सतीश धुपेलिया का इंतेकाल, निमोनिया के बाद हो गया था कोरोना
फाइल फोटो

जोहानिसबर्ग: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पड़पोते सतीश धुपेलिया का कोरोना वायरस से जुड़ी पेचीदगियों (जटिलताओं) की वजह से जनूबी अफ्रीका के जोहनिसबर्ग में इंतेकाल हो गया है. सतीश धुपेलिया 66 बरस के थे और जनूबी अफ्रीका में सामुदायिक कार्यकर्ता के तौर पर काम करते थे. 

सतीश धुपेलिया की बहन उमा धुपेलिया ने इस बात की तस्दीक की और बताया कि उनके भाई को कोविड-19 से संबंधित पेचीदगियों के चलते मौत हो गई है. उन्होंने आगे बताया कि उनके भाई को निमोनिया हो गया था और इसी उसके इलाज के लिए वह एक महीने अस्पताल में थे इसी दौरान वह कोरोना वायरस की ज़द आ गए थे. 

उमा ने सोशल मीडिया पोस्ट के ज़रिए निमोनिया से एक महीने तक मुतास्सिर रहने के बाद मेरे प्यारे भाई का इंतेकाल हो गया. अस्पताल में इलाज के दौरान वह कोरोना वायरस की ज़द में आ गए थे. इतवार को फेसबुक पोस्ट में उन्होंने लिखा कि आज शाम उन्हें दिल का दौरा पड़ा. जिसके बाद उनका इंतेकाल हो गया. 

Zee Salaam LIVE TV