पीओके के चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी इमरान खान की पीटीआई, सत्तारूढ़ PMIL(N) बाहर
X

पीओके के चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी इमरान खान की पीटीआई, सत्तारूढ़ PMIL(N) बाहर

सरकारी ‘रेडियो पाकिस्तान’ की खबर के मुताबिक, पीटीआई ने 23 सीटें जीती हैं, जबकि पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) आठ सीटों के साथ दूसरे और फिलहाल पीओके की सत्ता पर काबिज पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) को सिर्फ छह सीटें मिली हैं.

पीओके के चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी  इमरान खान की पीटीआई, सत्तारूढ़  PMIL(N) बाहर

इस्लामाबादः प्रधानमंत्री इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी (पीटीआई) पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में हुए चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी की शक्ल में उभरी है और इलाके में अगली सरकार उसके कयादत में बनेगी. हालांकि चुनाव में धांधली और हिंसा के इल्जाम भी लगे हैं. मकामी मीडिया ने अनौपचारिक नतीजों के हवाले से यह खबर दी है. सरकारी ‘रेडियो पाकिस्तान’ की खबर के मुताबिक, पीटीआई ने 23 सीटें जीती हैं, जबकि पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) आठ सीटों के साथ दूसरे और फिलहाल सत्ता पर काबिज पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) को सिर्फ छह सीटें मिली हैं. मुस्लिम कांफ्रेंस (एमसी) और जम्मू कश्मीर पीपुल्स पार्टी (जेकेपीपी) को एक-एक सीट पर कामयाबी मिली है. उधर, जियो टीवी ने खबर दी है कि पीटीआई ने 25 सीटें जीतीं हैं, उसके बाद पीपीपी ने नौ और पीएमएल-एन ने छह सीटें जीतीं है. मुस्लिम कांफ्रेंस और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स पार्टी ने एक-एक सीट जीती है. 

पीटीआई को सरकार बनाने के लिए बहुमत मिला 
पीटीआई को सरकार बनाने के लिए साधारण बहुमत मिल गया है और उसे किसी दूसरी पार्टी की हिमायत की जरूरत नहीं है. यह पहली बार है कि वह पीओके में सरकार बनाएगी. रिवायती तौर पर, मुल्क की सत्ताधारी पार्टी ही पीओके में चुनाव जीतती है. पीओके के विभिन्न जिलों की 33 सीटों पर कुल 587 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा जबकि पाकिस्तान में बसे जम्मू-कश्मीर के शरणार्थियों की 12 सीटें पर 121 प्रत्याशी मैदान में थे.

पीओके के प्रधानमंत्री की रेस में सबसे आगे 
पीटीआई के बैरिस्टर सुल्तान महमूद चौधरी क्षेत्र के प्रधानमंत्री की दौड़ में सबसे आगे चल रहे हैं. वह अपनी सीट जीत गए हैं. पूर्व प्रधानमंत्री और पीएमएल-एन नेता राजा फारूक हैदर ने अपनी सीट बचा ली है. एक दूसरे साबिक प्रधानमंत्री और मुस्लिम कॉन्फ्रेंस के प्रमुख सरदार अतीक अहमद खान भी चुनाव जीत गए हैं. पीओके के सरकार प्रमुख को ‘प्रधानमंत्री’ कहा जाता है.

पीओके में हैं कुल 53 सीटें 
पीओके विधानसभा में कुल 53 सदस्य हैं लेकिन इनमें से सिर्फ 45 पर सीधे चुनाव किया जाता है. इनमें पांच सीट महिलाओं के लिए आरक्षित हैं और तीन विज्ञान विशेषज्ञों के लिए हैं. सीधे चुने जाने वाले 45 सदस्यों में से 33 सीटें पीओके के निवासी के लिए हैं और 12 सीटें शरणार्थी के लिए हैं, जो बीते वर्षों में कश्मीर से यहां आए थे और पाकिस्तान के विभिन्न शहरों में बस गए है.

विपक्षी दलों ने चुनाव में हिंसा और धांधली का इल्जाम लगाया 
पाकिस्तान के विपक्षी दलों, पीपीपी और पीएमएल-एन ने खान की पार्टी पर इतवार को हुए चुनावों में “धांधली” करने का इल्जाम लगाया है. पीपीपी की उपाध्यक्ष सीनेटर शेरी रहमान ने कहा है कि चुनाव में व्यवस्थित धांधली का सबूत है. जियो न्यूज के मुताबिक, पीएमएल-एन के उम्मीदवार चैधरी मोहम्मद इस्माईल गुर्जर ने इतवार को धमकी दी थी कि अगर स्थानीय प्रशासन उनकी चिंताओं को दूर करने में नाकाम रहता है, तो वह भारत की मदद मांगेंगे.’’ 

Zee Salaam Live Tv

Trending news