रूस ने बनाई दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन, पुतिन की बेटी पर भी किया गया टेस्ट

पुतिन ने बताया कि इस वैक्सीन को उनकी दो बेटियों में से एक बेटी को दी गई है और वो बेहतर अब महसूस कर रही है. सद्र पुतिन ने कहा कि टेस्ट के दौरान वैक्सीन के अच्छे नतीजे आ रहे हैं.

रूस ने बनाई दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन, पुतिन की बेटी पर भी किया गया टेस्ट
फाइल फोटो.

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के खात्मे से मुतअल्लिक एक अच्छी खबर यह आ रही है कि कोरोना से लड़ने वाली वैक्सीन बन चुकी है. कोरोना वैक्सीन बनाने की होड़ में लगी पूरी दुनिया के बीच रूस के सद्र व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने ऐलान किया है कि उनके मुल्क ने कोरोना वायरस की वैक्सीन बना ली है और उसे रजिस्टर्ड भी करा लिया गया है. कोरोना वैक्सीन रजिस्टर्ड कराने वाला रूस दुनिया का पहला देश बन गया है.

पुतिन ने बताया कि इस वैक्सीन को उनकी दो बेटियों में से एक बेटी को दी गई है और वो बेहतर अब महसूस कर रही है. सद्र पुतिन ने कहा कि टेस्ट के दौरान वैक्सीन के अच्छे नतीजे आ रहे हैं. उन्होंने कहा है कि कि इस वैक्सीन से कोरोना वायरस से लंबे वक्त तक महफूज़ रहा जा सकता है और यह वैक्सीन तमाम ज़रूरी टेस्ट के मरहलों से हो कर गुज़री है. हालांकि रूस की कामयाबी पर दुनिया के कई मुल्क खदशा ज़ाहिर कर रहे हैं और हड़बड़ी में किए गए रजिस्ट्रेशन पर सवाल भी उठा रहे हैं. इन मुल्कों का कहना है कि फेज़-3 के ट्रायल से पहले इसका रजिस्ट्रेशन सही नहीं है क्योंकि इसमें कई महीनों का वक्त लगता है और हज़ारों लोगों की जिंदगी दांव पर लगी होती है.

बता दें कि रूस में इस वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल 18 जून को शुरू हुआ था, जिसमें 38 लोगों ने हिस्सा लिया था. जिसमें सभी ने वायरस के खिलाफ इम्यूनिटी हासिल कर ली थी. पहला ग्रुप 15 जुलाई को डिस्चार्ज किया गया, जबकि दूसरा ग्रुप 20 जुलाई को छोड़ा गया.

Zee Salaam LIVE TV