पोकरण में पाकिस्तान का 'साइबर अटैक'! दहशत में हैं लोग

नाचना क्षेत्र में सोशल मीडिया से जुड़े कई लोगों की फेसबुक आईडी हैक होने की खबर है. 

पोकरण में पाकिस्तान का 'साइबर अटैक'! दहशत में हैं लोग
आमने-सामने की लड़ाई में हार के चलते पाकिस्तान अब साइबर वार कर रहा है.

चंद्रशेखर दवे, पोकरण: पाकिस्तानी सीमा से सटे सरहदी जिले के पोकरण उपखंड क्षेत्र के नाचना गाव में एक सनसनी खेज मामला सामने आया है. नाचना क्षेत्र में सोशल मीडिया से जुड़े कई लोगों की फेसबुक आईडी हैक होने की खबर है. हैक करने के बाद लोगों के प्रोफाइल में विदेशी महिला सैनिकों की तस्वीरें लगा दी गई हैं. साथ ही सभी हैक आईडी में जिलियन क्लेरेंस नाम से प्रोफाइल बनाकर हैकर ने लोगों के ईमेल और मोबाइल नंबर भी बदल दिए हैं. संभावना जताई जा रही है कि सीमा पार बैठे हैकरों ने नापाक कारनामे को अंजाम दिया है.

बड़े स्तर पर फेसबुक आईडी हैक होने से लोगों में हड़कंप मच गया है. बड़ी संख्या में आईडी हैक होने से किसी बड़ी साजिश का अंदाजा लगाया जा रहा है. बॉर्डर एरिया होने के कारण दुश्मन देश की पाकिस्तानी एजेंसी या किसी आतंकी संगठन के साइबर सेल के कारनामे की आशंका जताई जा रही है. 

ये भी पढ़ें: 90 किमी दूर दुश्‍मन को मार गिराएगी यह मिसाइल, पोखरण में हुआ परीक्षण, लगाया सटीक निशाना

जानकारों का कहना है कि इतनी बड़ी संख्या में लोगों की फेसबुक आईडी हैक होना चिंता का विषय है. उन्होंने लोगों को सलाह दी है कि लोग अपना पासवर्ड रिसेट कर लें. इतनी भारी संख्या में लोगों की फेसबुक आईडी हैक होने की बात स्थानीय प्रशासन और सेना को बता दी गई है. प्रशासन साइबर एक्सपर्ट की मदद से पूरे मामले की तहकीकात में जुट गए हैं.

मालूम हो कि अगर कोई आपका सोशल मीडिया अकाउंट हैक कर लेता है तो वह उसके जरिए आपके फोन तक पहुंच सकता है. इसके बाद आपके फोन में मौजूद जानकारियां वह हासिल कर सकता है. इसी वजह से सेना या सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े लोगों को स्मार्टफोन पर सोशल मीडिया यूज करने से मना करते हैं.

ये भी पढ़ें: पोखरण: सेना के जवानों और पुलिसकर्मियों के बीच छिड़ी 'जंग', ताबड़तोड़ बरसाई लाठियां

कई रिपोर्ट्स में साबित हो चुके हैं कि सोशल मीडिया के जरिए किसी भी शख्स की पसंद-नापसंद सहित कई जानकारी जुटाई जा सकती है. इन जानकारियों का गलत इस्तेमाल भी हो सकता है. कई बार लोग सोशल मीडिया पर अपनी बेहद निजी जानकारी भी शेयर कर देते हैं, ऐसे स्थिति में उन्हें हैकर उनका दुरुपयोग भी कर लेते हैं.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close