राजस्थान चुनाव: ये हैं वो हॉट सीटें, जहां कांग्रेस-बीजेपी के बीच है कड़ा मुकाबला!

 आज का मतदान दोनों पार्टियों के साथ-साथ जनता के लिए भी बेहद महत्वपूर्ण है. राजस्थान की इन सीटों पर दिग्गज नेता चुनाव लड़ रहे हैं. 

राजस्थान चुनाव: ये हैं वो हॉट सीटें, जहां कांग्रेस-बीजेपी के बीच है कड़ा मुकाबला!
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों में से 199 विधानसभा सीटों पर आज मतदान हो रहा है. अलवर जिले की रामगढ़ विधानसभा सीट से बसपा प्रत्याशी की दिल का दौरा पड़ने से मौत के कारण यहां चुनाव स्थगित कर दिए गए हैं. वहीं इस बार प्रदेश की दोनों बड़ी पार्टियों कांग्रेस और बीजेपी द्वारा कई सीटों पर मजबूत दावेदारों को आमने सामने उतारा गया है. इसके चलते आज का मतदान दोनों पार्टियों के साथ-साथ जनता के लिए भी बेहद महत्वपूर्ण है. वहीं, राजस्थान की इन सीटों पर दिग्गज नेता चुनाव लड़ रहे हैं. 

प्रदेश की चर्चित सीटें-

झालरापाटन:
झालावाड़ संभाग की झालरापाटन सीट को सीएम वसुंधरा राजे का गढ़ माना जाता है और वह एक बार फिर इसी सीट से चुनावी मैदान में है, लेकिन कुछ वक्त पहले ही बीजेपी के बागी हुए मानवेंद्र सिंह के कांग्रेस ज्वाइन करने के बाद कांग्रेस द्वारा भी चुनावी दाव चला गया और उन्होंने इस सीट से मानवेंद्र सिंह को चुनावी मैदान में उतारा. इसके बाद से ही यह सीट चर्चाओं में है और हॉटसीट की लिस्ट में शामिल हो गई है. हालांकि, आपको बता दें, सीएम राजे इस सीट से चौथी बार चुनाव लड़ रही हैं. वह यहां से पहले तीन बार चुनाव जीत चुकी हैं.

सरदारपुरा:
जोधपुर की सरदारपुरा सीट पर पिछले चार विधानसभा चुनावों से कांग्रेस की पकड़ है. सरदारपुरा सीट से जीतने वाले विधायक दो बार प्रदेश के मुख्यमंत्री बने और मोदी लहर के बावजूद जोधपुर की 10 सीटों में से सिर्फ एकमात्र सीट सरदारपुरा सीट कांग्रेस के खाते में गई थी. इसे पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का गढ़ माना जाता है और इसी वजह से एक बार फिर अशोक गहलोत ही इस सीट से चुनावी मैदान में हैं. वहीं बीजेपी द्वारा इस सीट से शंभू सिंह को मौका दिया गया है. 

नाथद्वारा:
कांग्रेस पार्टी ने नाथद्वारा सीट पर अपने कद्दावर नेता और राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के बेहद करीबी माने जाने वाले डॉ. सीपी जोशी को चुनावी मैदान में उतारा है. बता दें कि साल 2008 के विधानसभा चुनाव में डॉ. सीपी जोशी को 1 वोट से बीजेपी के कल्याण सिंह चौहान द्वारा हार का सामना करना पड़ा था. हालांकि डॉ. जोशी 2009 के लोकसभा चुनावों में भीलवाड़ा से लोकसभा सांसद चुने गए और केंद्र में कैबिनेट मंत्री भी बनें. डॉ. सीपी जोशी इस सीट का प्रतिनिधित्व 4 बार कर चुके हैं. नाथद्वारा विधानसभा सीट डॉ. सीपी जोशी की परंपरागत सीट रही है. वहीं बीजेपी इस सीट पर लगातार दो बार जीत का परचम लहरा चुकी है लेकिन बीजेपी विधायक कल्याण सिंह चौहान के निधन के बाद यहां उपचुनाव नहीं हुए. लिहाजा इस बार बीजेपी ने नाथद्वारा विधानसभा के चुनावी मैदान में महेश प्रताप सिंह को उतारा है.

टोंक:
राजस्थान में हो रहे विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा चर्चित सीट टोंक है, क्‍योंकि इस सीट से पहली बार कांग्रेस द्वारा सचिन पायलट को मौका दिया गया है और इसके जवाब में बीजेपी ने भी अपना दाव चलते हुए यूनुस खान को इस सीट से चुनाव में उतारा है. आपको बता दें, कांग्रेस ने पहली बार इस सीट से किसी हिंदू को टिकट दिया है, वर्ना कांग्रेस द्वारा आज तक के इतिहास में इस सीट से मुस्लिमों को चुनावों में उतारा गया है. 

ओसिंया:
राजस्थान की ओसिंया सीट से कांग्रेस द्वारा पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा की बेटी को चुनावों में टिकट दिया गया है. इस कारण यह सीट एक बार फिर चर्चाओं में है. आपको बता दें, महिपाल मदेरणा को कांग्रेस द्वारा खुद ही भंवरी देवी हत्याकांड के आरोप में निकाल दिया गया था. इसके बाद इस सीट से 2013 चुनावों में उनकी पत्नी लीला मदेरणा को चुनावों में टिकट दिया गया था. वहीं बीजेपी द्वारा इस सीट से भैराराम चौधरी को मैदान में उतारा गया है. हालांकि, 2013 में इस सीट से बेहरा राम चौधरी को टिकट दिया गया था और उन्हें जनता का समर्थन भी प्राप्त हुआ था. 

उदयपुर:
राजस्थान की उदयपुर सीट का नाम भी हॉट सीट लिस्ट में शामिल है. दरअसल, इस सीट से एक ओर जहां बीजेपी द्वारा गुलाबचंद कटारिया को चुनावी मैदान में उतारा गया है. तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस द्वारा डॉ. गिरिजा व्यास को मौका दिया गया है. डॉ. गिरिजा व्यास और गुलाबचंद कटारिया दोनों के बीच इस वजह से भी कड़ा मुकाबला है क्योंकि दोनों द्वारा पहली बार इसी सीट से जीत प्राप्त की गई थी.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close