भीमा-कोरेगांव हिंसा के आरोप में गिरफ्तार 10 एक्टिविस्ट्स के समर्थन में उतरे नक्सली

बैनर में माओवादियों ने भाजपा सरकार को फांसीवाद सरकार बताते हुए अर्बन नक्सलियों की गिरफ्तारी का विरोध किया है और भीमा-कोरेगांव में हुई हिंसा के लिए भाजपा और आरएसएस को हमले का सूत्रधार बताया है.

भीमा-कोरेगांव हिंसा के आरोप में गिरफ्तार 10 एक्टिविस्ट्स के समर्थन में उतरे नक्सली
बैनर में किया भीमा-कोरेगांव हिंसा के आरोप में गिरफ्तार लोगों का समर्थन

नई दिल्लीः छत्तीसगढ़ के दक्षिण गढ़चिरौली में माओवादियों ने भीमा-कोरेगांव में फैली हिंसा के आरोप में गिरफ्तार हुए 10 एक्टिविस्ट्स के समर्थन में बैनर लगाए हैं. बैनर के जरिए माओवादियों ने एक्टिविस्ट्स की गिरफ्तारी को भाजपा और आरएसएस का मिला-जुला षणयंत्र बताया है और लोगों से सभी 10 लोगों की रिहाई के लिए समर्थन मांगा है. माओवादियों ने सरकार से सभी 10 लोगों की बिना किसी शर्त रिहाई की मांग की है. बैनर में माओवादियों ने भाजपा सरकार को फांसीवाद सरकार बताते हुए अर्बन नक्सलियों की गिरफ्तारी का विरोध किया है और भीमा-कोरेगांव में हुई हिंसा के लिए भाजपा और आरएसएस को हमले का सूत्रधार बताया है. बता दें माओवादियों ने जिन 10 लोगों की रिहाई की मांग की है उन सभी को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर 12 सितंबर तक हाउस अरेस्ट रखा गया है.

गढ़चिरौली: सुबह का नाश्‍ता बना सुराग, कमांडो टीम ने ऐसे किया नक्सलियों का सफाया

भीमा-कोरेगांव हिंसा के आरोप में गिरफ्तार लोग
बैनर के द्वारा माओवादियों ने जनता से अपील की है कि वह गरीबों के हितों के लिए लड़ने वाले एक्टिविस्टों को माओवादी करार देने पर आवाज उठाएं और भाजपा-आरएसएस के विरोध में स्वर तेज करें. बता दें पिछले कई दिनों से देश में अर्बन नक्सलियों को लेकर बहस चल रही है. ऐसे में अब भीमा-कोरेगांव हिंसा के आरोप में गिरफ्तार लोगों के समर्थन में माओवादियों द्वारा बैनर लगाने पर यह मुद्दा और जोर पकड़ सकता है. Chhattisgarh: Naxalites in support of Arrested 10 activists in Bhima-Koregaon violence

आज गरीब की मदद करना गुनाह हो गया है, ये दौर आपातकाल से भी अधिक खतरनाक है- अरुंधति राय

पेरिमिली दलम के पास लगाए बैनर
छत्तीसगढ़ के गढ़चिरौली में ये बैनर पेरिमिली दलम के पास मिले हैं. माओवादियों ने ये बैनर पुलिस स्टेशन से महज 2.5 किलोमीटर की दूरी पर अरेंडा फाटा में लगाए हैं. यह पहली बार है जब माओवादियों ने भूमिगत विचारकों का खुलकर सपोर्ट कर रहे हैं. बता दें जिन लोगों के समर्थन में माओवादियों ने ये बैनर लगाए हैं उन्हें भीमा-कोरेगांव हिंसा में संलिप्तता के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. इस बैनर में माओवादियों ने वरवर राव, गौतम नवलखा, अरुण फरेरा, वर्नोन गोंजास्विस और सुधा भरद्वाज के नाम लिखे हैं. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close