दिग्विजय सिंह ने जताई इच्छा, कहा- मानसरोवर की यात्रा मुझे भी करनी है

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तर्ज पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी कैलास मानसरोवर यात्रा करने की इच्छा सोमवार को व्यक्त की.

दिग्विजय सिंह ने जताई इच्छा, कहा- मानसरोवर की यात्रा मुझे भी करनी है
अभी हाल ही में राहुल ने मानसरोवर की यात्रा की है.

भोपाल: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तर्ज पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी कैलास मानसरोवर यात्रा करने की इच्छा सोमवार को व्यक्त की. सिंह ने कैलास मानसरोवर का चित्र पोस्ट करते हुए ट्वीट किया, ‘‘मानसरोवर, मुझे भी यह यात्रा करनी है. हो सकता है अगले साल’’ संवाददाताओं द्वारा आज उनके द्वारा कैलास मानसरोवर यात्रा करने की इच्छा व्यक्त करने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘इंशाअल्लाह, क्यों नहीं.’’ मालूम हो कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव के दौरान कैलास मानसरोवर की यात्रा करने की अपनी इच्छा व्यक्त की थी और अभी हाल ही में राहुल ने यह यात्रा की है.

गौरतलब है कि 70 वर्षीय दिग्विजय सिंह अपनी पत्नी अमृता के साथ सितम्बर 2017 से अप्रैल 2018 तक मध्यप्रदेश की जीवन रेखा मानी जाने वाली पवित्र नदी नर्मदा की पैदल परिक्रमा कर चुके हैं.  राघौगढ़ राजवंश से ताल्लुख करने वाले दिग्विजय ने इस यात्रा के दौरान नर्मदा नदी के दोनों किनारों पर लगभग 3,300 किलोमीटर का फासला पैदल तय किया था. 

कैलाश मानसरोवर यात्रा पर गए राहुल गांधी का पहला VIDEO आया सामने, दिख रहे हैं कुछ ऐसे

कैलाश पर्वत की शरण में आना सौभाग्य की बात-राहुल
आपको बता दें कि इससे पहले राहुल गांधी ने गुरुवार को कैलाश मानसरोवर यात्रा की कुछ तस्वीरों को शेयर करते हुए लिखा था, 'इस विशालकाय पर्वत की शरण में आना सौभाग्य की बात है.' इससे पहले राहुल ने ट्वीट किया था कि एक इंसान कैलाश की यात्रा तभी कर सकता है जब उसे बुलावा आता है, मैं इस बात से खुश हूं कि मुझे ये मौका मिला. आगे उन्होंने लिखा, 'मुझे जो कुछ भी यहां पर देखने का मौका मिलेगा मैं देखूंगा और आपके साथ शेयर भी करूंगा.'

राहुल पर मानसरोवर यात्रा शुरू करने से पहले नॉनवेज खाने का लगा आरोप, रेस्टोरेंट ने बताया सच

गौरतलब है कि 26 अप्रैल को कर्नाटक की यात्रा के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष के विमान में तकनीकी खराबी आने के कारण विमान बाईं ओर तेजी से झुक गया और तेजी से नीचे आने लगा था इसके बाद हालांकि विमान संभल गया और सुरक्षित नीचे उतरा. इसके तीन दिन बाद 29 अप्रैल को गांधी ने एक रैली के दौरान कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाने की घोषणा की थी. 

इनपुट भाषा से भी 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close