जयपुर में 'जीका' वायरस के 29 केस मिले पॉजिटिव, स्वास्थ्य विभाग ने की पुष्टि

ACS चिकित्सा एवं स्वास्थ्य वीनू गुप्ता ने इस बात की पुष्टि की है कि प्रदेश में 29 व्यक्तिों के 'जीका' वायरस से ग्रसित हैं. 

जयपुर में 'जीका' वायरस के 29 केस मिले पॉजिटिव, स्वास्थ्य विभाग ने की पुष्टि
जीका वायरस के ग्रसित 29 लोगों में 3 गर्भवती महिलाएं भी शामिल हैं.

आशुतोष शर्मा, जयपुर: प्रदेश में स्वाइन फ्लू, डेंगू, मलेरिया, स्क्रबटाइटस के बाद अब 'जीका' वायरस की दस्तक से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है. बदलते मौसम और बीमारियों से लोग उबर ही रहे थे कि राजस्थान में चिकित्सीय विभाग की जांच के बाद जीका वायरस के मामलों और स्क्रब टायफस से हो रही मौतों से प्रदेश में भय का माहौल पैदा हो गया है.

ACS चिकित्सा एवं स्वास्थ्य वीनू गुप्ता ने इस बात की पुष्टि की है कि प्रदेश में 29 व्यक्तिों के 'जीका' वायरस से ग्रसित हैं. जीका वायरस के ग्रसित 29 लोगों में 3 गर्भवती महिलाएं भी शामिल हैं. स्वास्थ्य विभाग इस मामले को गंभीरता से लेते हुए ये पता लगाने में लगा हुआ है कि जीका वायरस कहां से प्रदेश में आया और कितने लोग इससे पीड़ित हैं. हालांकि, मामला सामने आते ही इस सम्बन्ध में एक टीम का गठन कर दिया गया है, जो घरों में जाकर सर्वे करेगी.

ACS चिकित्सा एवं स्वास्थ्य वीनू गुप्ता ने बताया कि जीका वायरस की जांच के लिए प्रदेश में 450 संदिग्ध मरीजों के सैंपल लिए थे. जबकि एहतियात के तौर पर 160 गर्भवती महिलोओं के सैपल भी लिए गए थे. जिसमें जीका वायरस के 29 पॉजिटिव मामले पाए गए है. खबर के मुताबिक जीका वायरस के सभी मामले जयपुर के शास्त्री नगर के है. 

जीका वायरस आने के बाद नगर निगम पूरी तरह अलर्ट हो गया है. स्वास्थ्य विभाग की तरफ नगर निगम को शास्त्री नगर में फोगिंग और मच्छरों को खत्म करने के आदेश दिए गए हैं लेकिन शहर के अन्य जिलों में फोगिंग के लिए टीम अभी तक नहीं पहुंची है.  

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक जहां ऐडीज मच्छरों के वाहक पाए जाते हैं जो डेंगू और चिकुनगुनिया को भी जन्म देते हैं. ऐडीज ऐगिपटाए मच्छर जिका विषाणु को जन्म देते हैं जो डेंगू और चिकुनगुनिया भी फैलाता है. दोनों ही बीमारियां भारत जैसे उष्णकटिबंधीय देशों के लिए बड़ी सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्याएं हैं. जीका वायरस का प्रकोप 2015 में ब्राजील से शुरू हुआ और 24 अमेरिकी देशों में फैल चुका है.

बता दें कि जीका वायरस जन्म दोष और माइक्रोसेफली जैसी मस्तिष्क संबंधी विकारों के लिए जिम्मेदार है. माइक्रोसेफली के कारण बच्चे असामान्य रूप से छोटे सिर के साथ पैदा होते हैं. इसी बीच डब्ल्यूएचओ प्रमुख मार्गरेट चान ने कहा कि जन्म दोष में तेजी से बढ़ोतरी के लिए जिम्मेदार कहा जा रहा 'जीका' वायरस भयावह ढंग से फैल रहा है. मार्गरेट ने कहा कि जीका अब भयावह ढंग से फैल रहा है. अलार्म का स्तर बहुत अधिक है.

गौरतलब है कि हाल ही में पुणे के राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान ने जयपुर की एक बुजुर्ग महिला के जीका वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की थी. जिसके बाद प्रदेश की राजधानी जयपुर के सवाई मानसिंह चिकित्सालय के प्राचार्य डॉ. यू एस अग्रवाल ने बताया था कि एक बुजुर्ग महिला को जोडों में दर्द, आखें लाल होने और कमजोरी के कारण 11 सितम्बर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जिसके बाद डॉक्टरों की टीम ने बुजुर्ग महिला की प्रारंभिक जांच की. जिसके बाद डेंगू, स्वाइन फ्लू अन्य जांच सामान्य मिले. लेकिन फिर भी डॉक्टरों ने एहतियात के तौर पर नमूने को पुणे की प्रयोगशाला में जांच के लिये भेज दिया था. पुणे में जांच में महिला में जीका वायरस की पुष्टि हुई थी.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close