कौन हैं अरुण यादव? जो चुनावी मैदान में सीएम शिवराज सिंह को दे रहे हैं चुनौती

कांग्रेस की ओर से चुनावी मैदान में सीएम शिवराज सिंह को चुनौती देने के लिए कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव उतरे हैं

कौन हैं अरुण यादव? जो चुनावी मैदान में सीएम शिवराज सिंह को दे रहे हैं चुनौती
अरुण यादव के शिवराज के खिलाफ उतरने से बुधनी सीट पर मुकाबला काफी रोचक हो गया है

नई दिल्ली: मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को नामांकन की आखिरी तारीख थी. इसी वजह से बीजेपी-कांग्रेस समेत सभी पार्टियों के बचे हुए प्रत्याशी अपना-अपना नामांकन किया. नामांकन के दौरान प्रत्याशियों के साथ कई दिग्गज भी मौजूद रहे. इसी बीच कांग्रेस की ओर से चुनावी मैदान में सीएम शिवराज सिंह को चुनौती देने के लिए कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव के उतरने पर अंतिम मुहर लग गई. अरुण को कांग्रेस ने बुधनी से प्रत्याशी बनाया है. गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को 230 विधानसभा सीटों के लिए मतदान होगा.

आज दाखिल करेंगे नामांकन
आपको बता दें कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने शुक्रवार को सीहोर की बुधनी सीट से सीएम शिवराज सिंह के खिलाफ नामांकन दाखिल किया. अरुण यादव के शिवराज के खिलाफ उतरने से इस सीट पर मुकाबला काफी रोचक हो गया है. नामांकन से पहले भोपाल में अरुण यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की थी. इस दौरान बीजेपी सरकार और सीएम पर सीधा निशाना साधते हुए अरुण यादव ने कहा था कि मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा अवैध उत्खनन सीएम के क्षेत्र में होता है. महिला अत्याचार के मामले में प्रदेश में सीएम का क्षेत्र अव्वल है.

"राहुल जी तय करेंगे कौन सीएम होगा"
अरुण यादव ने स्पष्ट किया था कि सीएम शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ महिला अपराध को वे अपना चुनावी हथियार बनाएंगे. इसके साथ ही खनन और खराब सड़कों को लेकर बुधनी में मुख्यमंत्री की पोल भी खोलेंगे. उन्होंने मीडिया के समक्ष अपनी बात रखते हुए कहा था कि सीएम के गृह क्षेत्र में सबसे ज्यादा आत्महत्या किसानों ने की है. सबसे ज्यादा अवैध उत्खनन सीएम के गृह क्षेत्र में है. सबसे ज्यादा महिला अत्याचार सीएम के क्षेत्र में है. यही हमारे मुद्द्दे होंगे. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि 'हम चुनाव जीतेंगे, सरकार भी बनाएंगे.' उन्होंने आगे कहा, "यदि सरकार बनती है तो सीएम कौन होगा यह सवाल बार-बार क्यों पूछते हैं. राहुल जी तय करेंगे कौन सीएम होगा."

कौन हैं अरुण यादव
- एमपी के डिप्टी सीएम रहे सुभाष यादव के बेटे हैं अरुण यादव
- 14वीं लोकसभा में 2007-09 तक वे सांसद रहे
- 15वीं लोकसभा में भी वे 2009-2014 तक दोबारा चुने गए
- 2009-2011 तक वे केंद्रीय मंत्री भी रहे
- 2014 लोकसभा चुनाव में वे बीजेपी के नंदकुमार चौहान से हार गए
- 13 जनवरी 2014 से 1 मई 2018 तक एमपी कांग्रेस के अध्यक्ष रहे
- अब अरुण यादव सीएम शिवराज सिंह के खिलाफ बुधनी से चुनाव लड़ रहे हैं