Dayashankar Mishra

Digital Editor . डिप्रेशन और आत्‍महत्‍या के विरुद्ध भारत में अपनी तरह की पहली #Digital सीरीज #Dearजिंदगी के लेखक

डियर जिंदगी : जिन्‍हें अब तक माफ न कर पाए हों...

डियर जिंदगी : जिन्‍हें अब तक माफ न कर पाए हों...

मुझे नहीं पता आप माफी को कैसे देखते हैं. आपके लिए इसके क्‍या मायने हैं. लेकिन मैं इसे अपनी मुक्‍ति से देखता हूं, दूसरे को क्षमा करने से नहीं! बात जरा पुरानी है.

डियर जिंदगी: आत्‍महत्‍या और मन का 'रेगिस्‍तान'!

डियर जिंदगी: आत्‍महत्‍या और मन का 'रेगिस्‍तान'!

बच्‍चों को रेत के महल बनाना बहुत पसंद है. जब भी वह समंदर, नदी किनारे होते हैं. इसी काम में जुट जाते हैं.

डियर जिंदगी: जब मन का न हो...

डियर जिंदगी: जब मन का न हो...

कभी-कभी हम चीजों के बारे में इतना अधिक सोचते हैं कि उनके नहीं होने पर भी वैसी दुनिया बना लेते हैं. जैसी हमने दिमाग में बनाई! अपनी बनाई दुनिया के अनुसार ही हम व्‍यवहार करने लगते हैं.

डियर जिंदगी: गुस्‍से का आत्‍महत्‍या की ओर मुड़ना!

डियर जिंदगी: गुस्‍से का आत्‍महत्‍या की ओर मुड़ना!

वह मित्र के मित्र हैं. उनकी छवि एक ऐसे व्‍यक्ति के रूप में है, जो हमेशा शांत रहते हैं. कभी गुस्‍से में नहीं दिखते. हर बात पर अक्‍सर उनका उत्‍तर ऐसा होता है, जैसा आप चाहते हैं.

डियर जिंदगी: अतीत की छाया और रिश्‍ते!

डियर जिंदगी: अतीत की छाया और रिश्‍ते!

जब भी आप किसी 'ऐसे' मोड़ की ओर जाना चाहते हैं,  जहां से आप कभी न गुजरे हों, आपका अतीत अक्‍सर सामने आ जाता है. हौसले के सहारे चार कदम बढ़ने को होते हैं कि अतीत आपके पांव खींचने में जुट जाता है.

डियर जिंदगी: अतरंगी सपने!

डियर जिंदगी: अतरंगी सपने!

हम अक्‍सर वही सपने देखते हैं, जो हमें दूसरी आंख से दिखाए गए थे. वही जो अभिभावक की आंखों में बसते रहे, लेकिन अधूरे रहे.

डियर जिंदगी: अकेलेपन की सुरंग और ‘ऑक्‍सीजन’!

डियर जिंदगी: अकेलेपन की सुरंग और ‘ऑक्‍सीजन’!

महानगर के साथ देश के बड़े शहर जिस एक सामान्‍य समस्‍या से सबसे अधिक जूझ रहे हैं, उसका नाम ‘अकेलापन’ है. यह अकेलापन बेतरतीब, शहरीकरण, बेरोजगारी और रिश्‍तों में हमेशा कुछ खोजने की लालसा से उपजा है.

डियर जिंदगी : दीपावली की तीन कहानियां और बच्‍चे…

डियर जिंदगी : दीपावली की तीन कहानियां और बच्‍चे…

बच्‍चे कैसे सीखते हैं. इसके बारे में हम अक्‍सर बातें करते रहते हैं. हमें लगता है कि वह न जाने किस ‘ग्रह’ से चीजें सीखकर आते हैं.

डियर जिंदगी : ऐसे ‘दीपक’ जलाएं…

डियर जिंदगी : ऐसे ‘दीपक’ जलाएं…

दीपावली की शुभकामना के साथ. दीये की जगमग के बीच हम इन ‘दीयों’ को रोशन कर सकें तो जिंदगी उदासी, डिप्रेशन और निराशा से हमेशा दूर रहेगी.

डियर जिंदगी : कितने ‘दीये’ नए!

डियर जिंदगी : कितने ‘दीये’ नए!

‘बच्‍चे की परवरिश करना पूरे गांव का दायित्‍व है.’- अफ्रीकी कहावत.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close