सिंगर सोनू को मिला अनुपम खेर का साथ- 'बंदे में है दम, जय हो सोनू निगम'

Last Updated: Thursday, April 20, 2017 - 12:43
सिंगर सोनू को मिला अनुपम खेर का साथ- 'बंदे में है दम, जय हो सोनू निगम'
अजान ट्वीट विवाद पर सिंगर सोनू निगम को अनुपम खेर का भी साथ मिला है.

नई दिल्ली: अजान पर किए गए ट्वीट विवाद में घिरे जानेमाने सिंगर सोनू निगम को बॉलीवुड के कई लोगों का साथ मिला है जिनमें जानेमाने कलाकार अनुपम खेर भी हैं. अनुपम खेर ने ट्वीट कर सोनू निगम को इसके लिए सराहा है. उन्होंने ट्वीट किया है, बंदे में हैं दम, जय हो सोनू निगम...

और पढ़ें: सोनू निगम को मिला कुमार विश्वास का साथ, बोले- कोई 'बाल' भी बांका नहीं कर सकता

दरअसल सोनू निगम ने एक मुस्लिम मौलवी के फतवे के जवाब में एक संवाददाता सम्मेलन कर मशहूर हेयर-स्टाइलिस्ट से अपना सिर मुंडवा लिया .मौलवी ने पिछले दिनों सोनू की ओर से किए गए विवादित ट्वीट के विरोध में फतवा जारी किया था. सोनू के इसी फैसले को अनुपम खेर ने अपने ट्वीट के जरिए सराहा है.  

 

 कुमार विश्वास ने भी किया समर्थन, सोनू ने कहां- शुक्रिया

'अज़ान' की ऊंची आवाज़ों पर आपत्ति दर्ज कर विवाद में घिरे और सोनू निगम को अब कई लोगों को साथ मिलता जा रहा है. सिंगर मीका ने उन्हें भले ही घर बदलने की सलाह दे डाली हो लेकिन आम आदमी पार्टी के नेता और कवि कुमार विश्वास ने सोनू निगम का खुलकर साथ दिया है. उन्होंने सोनू निगम को इसके लिए शाबासी दी है. 

और पढ़ें: अजान विवाद में मीका भी कूदे, सोनू को दी सलाह- ज्यादा दिक्कत है तो घर बदलें

कुमार विश्वास ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर लिखा, "आपके सच्चे दिल का कोई 'बाल' भी बांका नहीं कर सकता, दोस्त @sonunigam... ख़ुद की ज़ुल्फ़ें गिराकर नफरत का मुंडन करा ही दिया..." सोनू निगम ने इस ट्वीट का ट्वीटर पर जबाव देते हुए लिखा है- लव भाई. 

फतवे के जवाब में सोनू निगम ने अपना सिर मुंडवाया

सोनू निगम ने एक मुस्लिम मौलवी के फतवे के जवाब में एक संवाददाता सम्मेलन कर मशहूर हेयर-स्टाइलिस्ट से अपना सिर मुंडवा लिया .मौलवी ने पिछले दिनों सोनू की ओर से किए गए विवादित ट्वीट के विरोध में फतवा जारी किया था .सोनू ने अपने ट्वीट के जरिए धार्मिक स्थलों में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल की आलोचना की थी.अपने विवादित ट्वीट पर बात करने के लिए सोनू ने संवाददाता सम्मेलन बुलाया था .सोमवार को किए गए सोनू के ट्वीट के विरोध में कोलकाता के रहने वाले सैयद शा आतिफ अली अल कादरी ने उनके खिलाफ फतवा जारी किया था .कादरी ने कहा था कि सोनू के सिर के बाल काटने वाले शख्स को 10 लाख रूपए दिए जाएंगे ।
हेयर-स्टाइलिस्ट आलिम हकीम जब तक अपना काम शुरू करते, उससे पहले सोनू ने इस बात पर जोर दिया कि उनके ट्वीट सुबह की अज़ान में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल के खिलाफ थे और उनका मकसद किसी खास धर्म को निशाना बनाना नहीं था ।

और पढ़ें: सिंगर सोनू निगम ने मुंडवाया सिर, कहा- 10 लाख लाएं मौलवी

ट्वीट पर सोनू निगम ने दी सफाई

सोनू ने कहा, ‘मैंने तो सिर्फ लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल के खिलाफ बोला था .हर किसी को अपनी राय जाहिर करने का हक है .मुझे अपनी राय जाहिर करने का हक है और इसे गलत तरीके से पेश नहीं किया जाना चाहिए .लाउडस्पीकर की कोई जरूरत नहीं है, वे किसी धर्म का हिस्सा नहीं हैं ।’’ मशहूर गायक ने कहा कि उनका मकसद किसी की भावना को आहत करना नहीं था .उन्होंने कहा, ‘‘यदि मैंने कुछ गलत किया है तो कृपया मुझे माफ कर दें .मेरी मंशा एक सामाजिक विषय पर बात करने की थी, न कि धार्मिक विषय पर .’ सोनू ने कहा कि एक खास ट्वीट पर जोर देना गलत है, जिसमें उन्होंने लाउडस्पीकरों पर उपदेश को ‘गुंडागर्दी’ करार दिया था .उन्होंने कहा, ‘लोगों ने मेरे एक ट्वीट को हाथों-हाथ ले लिया जिसमें मैंने गुंडागर्दी का जिक्र किया था, उसमें मैंने मंदिरों और गुरूद्वारों का भी जिक्र किया था.

सोनू निगम के खिलाफ शिकायत दर्ज

लाउडस्पीकरों के जरिए धर्मस्थलों से धर्मोपदेश दिए जाने की आलोचना करने को लेकर गायक सोनू निगम के खिलाफ मराठवाड़ा के औरंगाबाद में एक लिखित शिकायत दर्ज कराई गई. औरंगाबाद के पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार ने बताया, ‘हमें गायक के खिलाफ एक लिखित शिकायत मिली है. हालांकि, इस सिलसिले में फिलहाल कोई अपराध दर्ज नहीं किया गया है.’ अधिकारी ने बताया कि एक धार्मिक संगठन के प्रमुख नदीम राणा नाम के एक व्यक्ति ने निगम के खिलाफ एक लिखित शिकायत के साथ जिंसी पुलिस थाना का रूख किया.

ट्वीट कर लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर उठाए थे सवाल

गायक सोनू निगम ने कई ट्वीट करके लाउडस्पीकरों का इस्तेमाल कर दिये जाने वाले उपदेशों तथा मस्जिद, मंदिर और गुरद्वारों से की जाने वाली प्रार्थना की पुकार को गुंडागर्दी करार दिया था। उन्होंने आज ट्विटर पर लिखा, ‘गुंडागर्दी है बस।’ 43 वर्षीय गायक ने कहा कि वह नहीं मानते कि धर्मस्थलों को लाउडस्पीकरों का इस्तेमाल करते हुये लोगों को जगाना चाहिये और मांग की कि इस ‘जबरिया धार्मिकता’ को खत्म किया जाना चाहिये।

ज़ी न्यूज़ डेस्क

First Published: Thursday, April 20, 2017 - 12:43
comments powered by Disqus