बीएसएफ ने पाकिस्तान के सामने उठाया सीमा पर गोलीबारी का मुद्दा

भारत और पाकिस्तान के बीच 3323 किमी लंबी सीमारेखा है. इसके दायरे में चार भारतीय राज्य, जम्मू कश्मीर, राजस्थान, गुजरात और पंजाब मौजूद हैं. सीमारेखा पर सुरक्षा की जिम्मेदारी बीएसएफ के पास है.

बीएसएफ ने पाकिस्तान के सामने उठाया सीमा पर गोलीबारी का मुद्दा
नियंत्रण रेखा पर चौकसी के दौरान सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने पाकिस्तान के समक्ष सीमावर्ती इलाकों में पाक सैनिकों की अकारण हो रही गोलीबारी, इससे स्थानीय नागरिकों की मौत और सीमा पर सुरंगों के जरिये आपराधिक गतिविधियों को बढ़ावा देने का मुद्दा पूरे जोरशोर से उठाया है. भारत और पाकिस्तान के रेंजर्स की शुक्रवार (10 नवंबर) को उच्चस्तरीय बैठक में भारतीय दल का नेतृत्व कर रहे बीएसएफ के महानिदेशक के के शर्मा ने पाकिस्तानी पक्ष का प्रतिनिधित्व कर रहे मेजर जनरल मोहम्मद सईद के साथ बैठक के दौरान यह मुद्दे उठाये. दोनों देशों के बीच सीमा पर शांति बहाली के लिये साल में दो बार होने वाली रेंजर स्तरीय बातचीत में हिस्सा लेने के लिये मेजर जनरल सईद की अगुवाई में पाकिस्तानी दल आठ नवंबर को भारत आया था.

बीएसएफ की ओर से जारी आधिकारिक बयान के मुताबिक बातचीत के अंतिम दौर में शुक्रवार (10 नवंबर) को भारतीय पक्ष ने सीमा पर शांति बहाली की दिशा में पाकिस्तान की ओर से बाधायें उत्पन्न करने वाली गतिविधियों का मुद्दा विस्तार से मजबूती के साथ उठाया. इसमें सीमा पार से कभी भी अनायास होने वाली गोलीबारी, सुरंगे बनाकर नशीले पदार्थों की तस्करी और घुसपैठ की कोशिशों के अलावा सीमा पर सैन्य निर्माणकार्य करने के मुद्दे शामिल हैं.

इस दौरान भारतीय पक्ष ने पाकिस्तानी रेंजर्स द्वारा सीमा पर पाकिस्तान की जमीन से भारत में आतंकवादियों की घुसपैठ रोकने के प्रयास सुनिश्चित करने को भी कहा. इस दौरान भारतीय अधिकारियों ने जम्मू क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान की ओर से बनायी गयी सुरंगों का भी ब्योरा पेश किया. बैठक में पाकिस्तान के प्रतिनिधिमंडल ने भी बीएसएफ द्वारा पाकिस्तान के सैनिकों को निशाना बनाते हुये गोलीबारी करने का मुद्दा उठाया.

भारतीय पक्ष ने इस पर स्पष्ट किया कि पाकिस्तान की ओर से अनायास गोलीबारी बंद होने के बाद ही भारतीय सैनिकों को जवाबी गोलीबारी करनी पड़ती है. उल्लेखनीय है कि भारत और पाकिस्तान के बीच 3323 किमी लंबी सीमारेखा है. इसके दायरे में चार भारतीय राज्य, जम्मू कश्मीर, राजस्थान, गुजरात और पंजाब मौजूद हैं. सीमारेखा पर सुरक्षा की जिम्मेदारी बीएसएफ के पास है. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close