शाजिया के `कम्‍यूनल` बयान पर मचा बवाल, राजनीतिक दलों ने किया प्रहार

आम आदमी पार्टी की नेता शाजिया इल्मी के उस बयान की सियासी महकमे में तीखी आलोचना हो रही है जिसमें उन्होंने मुसलमानों को कम्‍यूनल होने की सलाह दी है।

Updated: Apr 23, 2014, 12:04 PM IST

ज़ी मीडिया ब्यूरो
नई दिल्‍ली: आम आदमी पार्टी की नेता शाजिया इल्मी के उस बयान की सियासी महकमे में तीखी आलोचना हो रही है जिसमें उन्होंने मुसलमानों को कम्‍यूनल होने की सलाह दी है। कांग्रेस और बीजेपी ने उनपर जमकर निशाना साधा है। कांग्रेस ने तो शाजिया को यह सलाह दे डाली है कि वह मुसलमानों की प्रवीण तोगडि़या बनने की कोशिश न करें।
बीजेपी नेता रामेश्‍वर चौरसिया ने कहा है कि आप की रणनीति इस तरह के बयानों से चर्चाएं हासिल करना है। रामेश्‍वर के मुताबिक आम आदमी पार्टी जानबूझकर ऐसा करती है ताकि उसे मीडिया में जगह मिले। शाजिया के भाई और बीजेपी नेता एजाज इल्मी ने भी इस बयान को गलत बताया है। कांग्रेस लीडर मीम अफजल ने इस बयान की निंदा की है और उन्‍होंने कहा कि शाजिया मुसलमानों की प्रवीण तोगडि़या बनने की कोशिश न करें। शाजिया के इस बयान पर उनकी पार्टी ने भी किनारा कर लिया है। आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसौदिया ने कहा कि शाजिया को ऐसा बयान नहीं देना चाहिए था।
दूसरी तरफ वीडियो में मुसलमानों को कम्‍यूनल होने की सलाह देती दिखने के बाद विवादों में घिरीं आप नेता शाजिया इल्‍मी ने पूरे मामले पर सफाई दी है।
शाजिया ने एक न्‍यूज चैनल से हुई बातचीत में कहा कि मैंने यह बयान मजाक में दिया था। कम्युनल का मतलब कम्युनिटी से है। मैं मुसलमानों को कहना चाहती थी कि वे अपने समुदाय के हित के बारे में सोचें। हमारी कम्यूनिटी के जो खराब हालात हैं, उसके बारे में सोचें। सिर्फ कम्यूनल शब्द से कोई गलत मतलब नहीं निकाला जाए। मेरा मतलब कम्यूनिटी की बेहतरी से था।`
गौर हो कि आम आदमी पार्टी की नेता शाजिया इल्मी का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वह मुसलमानों से कम्यूनल होने की अपील करती दिख रही हैं। इस विडियो के सामने आने के बाद आम आदमी पार्टी बैकफुट पर आ गई है। पार्टी ने कहा है कि वह इस तरह की राजनीति का समर्थन नहीं करती है।
(एजेंसी इनपुट के साथ)