एशियाई चैम्पियनशिप: शॉटगन में शीराज शेख चौथे स्थान पर, पुरुष स्कीट टीम को कांस्य

पुरुष स्कीट क्वालीफिकेशन के पहले दिन के बाद मेराज और शीराज 75 में से 69 के समान स्कोर के साथ क्रमश: नौवें और 10वें स्थान पर थे. अंगद 64 के स्कोर से 23वें पायदान पर थे.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | अंतिम अपडेट: शनिवार अगस्त 12, 2017 - 09:01 PM IST
एशियाई चैम्पियनशिप: शॉटगन में शीराज शेख चौथे स्थान पर, पुरुष स्कीट टीम को कांस्य
शीराज, मेराज अहमद खान और अंगद वीर सिंह बाजवा (सबसे दाएं) की टीम ने 375 में से 347 अंक के साथ कांस्य पदक हासिल किया. (PHOTO : @Suromitro/Twitter)

अस्ताना: शीराज शेख मामूली अंतर से व्यक्तिगत पदक जीतने से चूक गए, लेकिन भारतीय पुरुष स्कीट टीम ने यहां सातवीं एशियाई शॉटगन चैंपियनशिप के छठे दिन कांस्य पदक जीता. शीराज, मेराज अहमद खान और अंगद वीर सिंह बाजवा की टीम ने 375 में से 347 अंक के साथ कांस्य पदक हासिल किया. मेजबान कजाखस्तान की टीम ने 350 अंक के साथ रजत पदक जीता जबकि कुवैत की टीम ने इसी स्कोर के साथ स्वर्ण पदक अपने नाम किया क्योंकि उसके राउंड स्कोर बेहतर थे. भारत ने अब तक प्रतियोगिता में सात पदक जीते हैं. शुक्रवार (11 अगस्त) को पुरुष स्कीट क्वालीफिकेशन के पहले दिन के बाद मेराज और शीराज 75 में से 69 के समान स्कोर के साथ क्रमश: नौवें और 10वें स्थान पर थे. अंगद 64 के स्कोर से 23वें पायदान पर थे.

शनिवार (12 अगस्त) को दो और क्वालीफिकेशन राउंड थे जिसमें तीनों निशानेबाजों ने पहले में 25 का परफेक्ट स्कोर बनाया. शीराज और मेराज ने दूसरे सेट में समान 24 अंक से कुल 118 का स्कोर बनाया. तीन अन्य निशानेबाजों का भी यही स्कोर रहा जिसके बाद इनके बीच चार फाइनलिस्ट तय करने के लिए शूट ऑफ हुआ. यूएई के सैफ बिन फुताइस और कुवैत मनसोर अल राशेदी ने 119 के समान स्कोर से छह निशानेबाजों के फाइनल के पहले दो स्थानों पर कब्जा जमाया. बाजवा आज 25 और 22 के स्कोर से 18वें स्थान पर रहे.

मेराज शूट आउट में आठवें स्थान पर रहते हुए चूक गए जबकि शीराज, ईरान के अली दोस्ती, जापान के मकोतो योकूची और कजाखस्तान के एलेक्सांद्र याचशेंकों ने फाइनल में जगह बनाई. फाइनल में कुवैत के मनसोर सबसे पहले बाहर हुए. इसके बाद अली दोस्ती 24 के स्कोर के साथ बाहर हो गए. शीराज ने 33 का स्कोर बनाया लेकिन चौथे स्थान पर रहने के कारण बाहर हो गए. फुताइस ने अंतत: 53 के स्कोर से स्वर्ण पदक जीता. याचशेंको ने 49 के स्कोर से रजत जबकि योकूची ने 41 के स्कोर से कांस्य पदक हासिल किया.