close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुशील मोदी ने खुद को बताया 'सीएम', कांग्रेस ने कहा- 'उन्होंने गलत इच्छा नहीं जताई है'

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी के एक ट्विट ने सियासी गलियारे के तापमान को बढ़ा दिया है.

सुशील मोदी ने खुद को बताया 'सीएम', कांग्रेस ने कहा- 'उन्होंने गलत इच्छा नहीं जताई है'
सुशील मोदी ने एक ट्वीट में खुद को सीएम बताया है. (फाइल फोटो)

पटनाः बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी के एक ट्वीट ने सियासी गलियारे के तापमान को बढ़ा दिया है. सुशील मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट से एक ट्विट करते हुए खुद को बिहार का सीएम बताया. जिसके बाद सियासी गलियारे में कयासों का बाजार गर्म हो गया. कांग्रेस ने इसे मोदी की मन की बात बतायी है. वहीं बीजेपी ने भी ये कहकर कयासों को हवा दे दी है कि हर नेता बड़े ओहदे पर जाना चाहता है. 

सुशील मोदी काफी वक्त से ट्विटर एक्टिव हैं. और हर दिन वह अपनी बातों को ट्विटर के जरिए कहते हैं. चाहे वह सरकार के पक्ष में हो या विपक्ष पर निशाना साधना हो. वह ट्वीट के जरिए ही सारी बातें कहते हैं. ऐसे में उनका एक ट्वीट अब सियासी गलियारों में नई हवा बहा दी है. 

दरअसल, सुशील मोदी अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल में लू पीड़ित मरीजों से मिलने गए थे. रोजाना की तरह इस बात को लेकर सुशील मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट से मरीजों का हालचाल लेते अखबार की एक कटिंग शुक्रवार को पोस्ट की. खबर के बारे में लोगों को जानकारी देते हुए सुशील मोदी ने खुद का परिचय मुख्यमंत्री सुशील मोदी के रुप में दे दिया. फिर क्या था मोदी के ट्विट पर सियासी गलियारे में कयासों को पंख लगने लगे.

BJP leader Sushil modi introduced himself as CM of Bihar

वहीं, कांग्रेस नेता सदानंद सिंह ने मोदी के ट्वीट पर कहा कि मोदी खुद ट्वीट नहीं करते होंगे. ये ट्विट उनके लोगों ने किया होगा. गलती से इस तरह का ट्विट हो गया है. लेकिन हर नेता की इच्छा होती है कि वो सीएम बने अगर सुशील मोदी के दिल में ये बात है तो इसमें बुरा नहीं है.

इधर ट्वीट को लेकर जेडीयू ने भी नाराजगी जाहिर की है लेकिन बड़े ही सधे अंदाज में, जेडीयू एमएलसी दिलीप चौधरी ने भी माना है कि ऐसा ट्वीट गलती से ही हुआ होगा. हांलाकि वो यह भी कहने में पीछे नहीं रहे कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही हैं. इस पद के लिए जगह खाली नहीं है, किसी के सोचने से कोई फर्क नहीं पड़ता है.

जेडीयू महासचिव केसी त्यागी ने भी इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इस तरह की गलतियां जानबूझकर नहीं की जाती है. सुशील मोदी पढ़े-लिखे व्यक्ति हैं. भूल से हो गई होगी गलती. 

ट्वीट को लेकर इसारों ही इसारों में खेल शुरु हो चुका है. लेकिन बीजेपी की तरफ से इस गलती पर जो सफाई आयी वो और भी चौकाने वाली थी. पार्टी के प्रवक्ता अजित चौधरी ने कहा है कि बिहार में एनडीए के नेता नीतीश कुमार ही हैं और वो बिहार के मुख्यमंत्री भी हैं. इसमें कहीं कोई दो राय नही है. ये ट्वीट गलती से किया गया होगा. हलांकि हरेक नेता की चाहत बड़े से बड़े पद पर जाने की होती है. इसे दूसरे अंदाज से लेना ठीक नहीं. 

ट्वीट के बाद बढते बवाल को देखते हुए बाद में सुशील मोदी की ओर से किये गये ट्वीट में सुधार जरुर कर लिया गया. लेकिन मोदी की ओर से गलती से किया गया ट्विट कयासों के बवंडर बिहार में छोड़ गया है.