close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: नहाय खाय के साथ छठ महापर्व की शुरुआत, 3 नवंबर को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य

छठ महापर्व के तीसरे दिन यानी शनिवार को डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा. वहीं, उसके अगले दिन यानी रविवार को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही छठ महापर्व की समाप्ति होगी.

बिहार: नहाय खाय के साथ छठ महापर्व की शुरुआत, 3 नवंबर को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य
नहाय खाय के साथ छठ पर्व की शुरुआत. (फाइल फोटो)

पटना: नहाय खाय के साथ सूर्योपासना के महापर्व छठ (Chhath Puja 2019) की शुरुआत हो चुकी है. आज छठ व्रती नदी, तालाब के घाटों पर स्नान कर चार दिनों तक चलने वाले इस महापर्व की शुरुआत करेंगे. आज विशेष तरह का खाना खाना होता है. खाने में कद्दू की प्रधानता होती है. अगले दिन यानी शुक्रवार को छठ व्रती खरना मनाएंगे. इस दिन गुड़ की खीर बनती है.

छठ महापर्व के तीसरे दिन यानी शनिवार को डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा. वहीं, उसके अगले दिन यानी रविवार को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही छठ महापर्व की समाप्ति होगी.

छठ महापर्व को लेकर पूरे बिहार में उत्साह का माहौल है. सभी जिला प्रशासन के द्वारा तैयारी की जा रही है. पटना में गंगा नदी के तट पर 100 अधिक घाट बनाए गए हैं. छठ पर्व के दौरान गंगा नदी पर बने घाट की छटा देखते ही बनती है.

छठ महापर्व की तारीख:
नहाय खाय- 31 अक्टूबर (गुरुवार)
खरना- 1 नवंबर (शुक्रवार)
सायंकालीन अर्घ्य- 2 नवंबर (शनिवार)
प्रात:कालीन अर्घ्य- 3 नवंबर (रविवार)

पटना में छठ व्रतियों के लिए एक ऐप लॉन्च किया गया है. एप से व्रतियों और श्रद्धालुओं को कई सुविधाएं मिलेंगी. घाट से थाना की दूरी, बैंक, एटीएम, रेस्टोरेंट, मेडिसिन काउंटर, रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड की दूरी बताया जाएगा. इस ऐप के माध्यस में कुल 16 प्रकार के फीचर बताए जाएंगे. पटना के जिला प्रसाशन के द्वारा यह ऐप तैयार करवाया गया है. व्रतियों के लिए परिवहन विभाग ने बस की विशेष सुविधा दी है.

22 घाट खतरनाक घोषित
पटना जिला प्रशासन ने पूरे पटना में 22 घाटों को खतरनाक घोषित किया है. पटना जिला प्रशासन ने पटना के छठ घाटों को दो जोन में बांटा है. पहली सूची में उन घाटों के बारे में बताया गया है, जहां पर छठ पूजा के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं. वहीं, दूसरी सूची उन खतरनाक घाटों की है, जहां आज भी खतरा बना हुआ है. जिला प्रशासन ने पूरे पटना में 22 घाटों को खतरनाक घोषित किया है. सभी खतरनाक घाटों को लाल कपड़े से घेरकर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

ये वीडियो भी देखें: