दीपावली की रात आतिशबाजी से बढ़ा रांची का प्रदूषण स्तर, 133 तक पहुंचा PM 10

एक वक्त में हिल स्टेशन के नाम से मशहूर झारखंड की राजधानी रांची आज प्रदूषित हो चुकी है. बढ़ती जनसंख्या, घटते पेड़, शहर में चलती गाड़ियां बढ़ते प्रदूषण की वजह साबित हो रही हैं.

दीपावली की रात आतिशबाजी से बढ़ा रांची का प्रदूषण स्तर, 133 तक पहुंचा PM 10
आतिशबाजी से बिगड़ा रांची का हाल. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

रांची: दीपावली के दौरान जहां पूरा शहर रोशनी से जगमगाता रहा और आतिशबाजी के जरिए लोगों ने खुशियों का इजहार किया वहीं, शहर का प्रदूषण स्तर काफी बढ़ चुका है. लोगों को सांस लेने में परेशानी हो रही है. प्रदूषण मानक PM-10, 133 ug/m3 तक पहुंच गया है. वहीं, PM 2.5 का स्तर 77 ug/m3 हो गया है. 

एक वक्त में हिल स्टेशन के नाम से मशहूर झारखंड की राजधानी रांची आज प्रदूषित हो चुकी है. बढ़ती जनसंख्या, घटते पेड़, शहर में चलती गाड़ियां बढ़ते प्रदूषण की वजह साबित हो रही हैं. वहीं, दिवाली की रात खुशी के तौर पर की गई आतिशबाजी ने शहर का प्रदूषण ही बिगाड़ दिया है. लोगों, खासकर बुज़ुर्गों को सांस लेने में कठिनाई हो रही है.

दरअसल, पार्टिकुलेट मैटर यानी PM 10 और PM2.5 प्रदूषण मानक होता है. शहर के बढ़े प्रदूषण की तस्दीक पॉल्युशन मेज़रमेंट डिस्पले बोर्ड कर रहा है. शहर का प्रदूषण मानक PM 10 और  PM 2.5 में काफी बढ़ोतरी हुई है. इसी वजह से रांची की दशा ही बदल गई है. जी मीडिया के माध्यम से लोग पर्यावरण की रक्षा करने की अपील करते नजर आ रहे हैं.

बहरहाल शहर का प्रदूषण लेवल सामान्य से काफी ज्यादा बढ़ गया है. यह कल धीरे धीरे शायद कम भी हो जाये, लेकिन हमें आज ही जागरूक होने की जरूरत है, जिससे कि कल यहां की हवा को जहरीली होने से बचाया जा सके. ज्ञात हो कि PM 10, 0-50 तक और PM 2.5, 0-30 ug/m3 है स्वच्छ पर्यावरण मानक माना जाता है.