close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना: कांग्रेस के जनसंवाद कार्यक्रम पर गरमाई सियासत, JDU ने बताया कागजी अभियान

राजीव रंजन ने कहा कि कांग्रेस के नेता सिर्फ कागजी योजनाओं को बनाने में लगे रहे. साथ ही कांग्रेस का यह अभियान भी पूरी तरह कागजी है. 

पटना: कांग्रेस के जनसंवाद कार्यक्रम पर गरमाई सियासत, JDU ने बताया कागजी अभियान
राजीव रंजन ने कहा कि कांग्रेस की पकड़ जनता के बीच कमजोर हो गई है. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में कांग्रेस पार्टी के जनसंवाद कार्यक्रम (Jan Samvad karyakram) पर सियासत गर्मा गई है. जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने कांग्रेस (Congress) के जनसंवाद कार्यक्रम को लेकर निशाना साधा है. जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन का ने कहा है कि कांग्रेस कागजों में सिमट कर रह गई है. 

उन्होंने कहा कि आजादी के 70 वर्ष बाद और अपने स्थापना के 133 वर्षों में कांग्रेस ने कई मुकाम हासिल किए हैं, लेकिन पिछले कई दशकों में उनका पतन होता चला गया और इसमें बिहार भी शामिल है. राजीव रंजन ने कहा कि ऐसे दलों के साथ जुड़ना चाहिए, जिनकी जनता के बीच पकड़ हो. जेडीयू नेता ने कहा कि कांग्रेस की पकड़ की लगातार जनता के बीच कमजोर होती गई और यही कारण है कि पार्टी धरातल पर चली गई है.

राजीव रंजन ने कहा कि कांग्रेस के नेता सिर्फ कागजी योजनाओं को बनाने में लगे रहे. साथ ही कांग्रेस का यह अभियान भी पूरी तरह कागजी है. जेडीयू द्वारा निशाना साधने पर कांग्रेस ने भी पलटवार किया है. कांग्रेस प्रवक्ता राजेश राठौर ने कहा कि पार्टी जन संवाद जनता के बीच में करेगी और उसका ताजा उदाहरण हरियाणा और महाराष्ट्र के साथ ही बिहार में हुए उपचुनाव के परिणाम हैं. 

राठौर ने कहा कि बिहार में कांग्रेस अपने जनसंवाद के साथ जनता के मुद्दे को उठाएगी. साथ ही सरकार जितना भी विपक्ष को दबाने की कोशिश करें, लेकिन कांग्रेस सरकार के काले चिट्ठों को जनता के बीच खोलेगी. आपको बता दें कि बिहार में अगले साल 2020 में विधानसभा के चुनाव होने हैं. इसको लेकर राजनीतिक दलों ने अपनी तैयारियां अभी से शुरू कर दी हैं. चुनाव से पहले सियासी बयानबाजी भी इसीलिए शुरू हुई है. 

गौरतलब है कि विपक्ष लगातार जेडीयू पर निशाना साध रहा है और चुनाव से पूर्व नीतीश कुमार सरकार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है. वहीं, जेडीयू का कहना है कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है, इसलिए इस तरह की बयानबाजी कर जनता को बहकाने का प्रयास किया जा रहा है.