खूंटी को नक्सल मुक्त करने के लिए कार्रवाई जारी, प्रशासन ने तैयार की 1456 लोगों की लिस्ट

धरपकड़ के लिए जिले के सभी नौ थानों में दो-दो टीमें बनाई गई हैं. एक टीम सत्यापन करने और दूसरी गिरफ्तार करने में जुटी हुई है.

खूंटी को नक्सल मुक्त करने के लिए कार्रवाई जारी, प्रशासन ने तैयार की 1456 लोगों की लिस्ट
खुंटी को नक्सल मुक्त करने की कोशिश.
Play

खूंटी : जिला पुलिस ने खूंटी को अपराध और नक्सल मुक्त करने के उद्देश्य से 1456 लोगों की सूची तैयार की है. इनमें अपराधी, उग्रवादी, नक्सली और उनके सफेदपोश मददगार शामिल हैं. इसके अलावा इनमें 450 स्थाई वारंटी और 956 फरार अभियुक्त शामिल हैं. इनके धरपकड़ के लिए जिले के सभी नौ थानों में दो-दो टीमें बनाई गई हैं. एक टीम सत्यापन करने और दूसरी गिरफ्तार करने में जुटी हुई है.

एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा, मुख्यालय डीएसपी विकास आनंद, खूंटी और तोरपा डीएसपी के मार्गदर्शन में ये टीमें काम कर रही है. पिछले एक माह में 250 से अधिक मामलों का निष्पादन किया जा चुका है.

बिहार में कम हुआ नक्सलियों का असर, नक्सली घटनाओं में अब 5वें स्थान पर

पुलिस की सूची में पीएलएफआई सुप्रीमो दिनेश गोप, जीदन गुड़िया, तिलकेश्वर गोप, अखिलेश गोप, प्रभु सहाय बोदरा, भाकपा माओवादी के दुर्योधन महतो, विमल लोहरा, महाराज प्रमाणिक, लोदरो लोहरा, प्रदीप स्वांसी, बोयदा पाहन जैसे हार्डकोर नक्सली मुख्य रूप से शामिल हैं. इसके अलावा पुलिस की सूची में एक सौ से अधिक सफेदपोश लोगों के नाम भी शामिल हैं. ये लोग शहर में रहकर किसी न किसी माध्यम से उग्रवादियों-नक्सलियों की मदद कर रहे हैं.

पुलिस पहले इन्हें सत्यापित करने में लगी है. जैसे ही पूरी तरह आश्वस्त हो जाएगी कि इनकी गिरफ्तारी भी शुरू कर दी जाएगी. ऐसे लोगों के अंदर हड़कंप मचा हुआ है. पुलिस कार्रवाई को आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव के साथ जोड़कर देखा जा रहा है. राज्य सरकार और जिला प्रशासन की सोच है कि खूंटी जिले के जितने भी अपराधी, उग्रवादी और नक्सली हैं सभी को चुनाव से पहले गिरफ्तार किया जाए, ताकि मतदाता भयमुक्त होकर अपने घरों से निकलें और मतदान करें.