close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फूल सी नन्ही बच्ची को माता-पिता ने अस्पताल में छोड़ा, नर्स दे रही हैं मां का प्यार

धनबाद स्थित पीएमसीएच अस्पताल के पीडियाट्रिक विभाग के नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (एनआईसीयू) में फिलहाल बच्ची का इलाज चल रहा है.

फूल सी नन्ही बच्ची को माता-पिता ने अस्पताल में छोड़ा, नर्स दे रही हैं मां का प्यार
पीएमसीएच की नर्स बच्ची की देखभाल कर रही हैं.

धनबाद : झारखंड के धनबाद में महज सात दिनों की फूल सी नन्ही बच्ची को उसके माता-पिता अस्पताल में छोड़कर चले गए. मां ने भले ही उसे अपने कलेजे से दूर कर दिया हो, लेकिन उसे कई माताओं का प्यार एक साथ मिल रहा है. जिस अस्पताल में बच्ची का जन्म हुआ वहीं की अधिकांश नर्स एक मां की तरह बच्ची का देखभाल कर रही है.

धनबाद स्थित पीएमसीएच अस्पताल के पीडियाट्रिक विभाग के नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (एनआईसीयू) में फिलहाल बच्ची का इलाज चल रहा है. एनआईसीयू में कार्यरत सभी शिफ्ट की नर्सें बच्ची की पूरी शिद्दत के साथ देखभाल कर रही हैं. नर्सों का कहना है कि बीते 14 दिनों से बच्ची का इलाज कर रही हैं. अब वे बच्ची के साथ खास लगाव महसूस करने लगी हैं.

नौ जून को सात दिन की बीमार बच्ची को उसके माता-पिता पीएमसीएच लेकर आए. बच्ची की हालत को देखते हुए उसे एनआईसीयू में भर्ती कराया गया. भर्ती होने के दो दिन बाद ही माता-पिता बच्ची को छोड़कर चले गए. अस्पताल के रजिस्टर में पिता का नाम अंजुम अंसारी और माता का नाम शमीमा खातून दर्ज है. पता गिरिडीह जिला के लूसाडीह बिरनी बताया गया है.

ज्ञात हो कि अंजुम ने दो शादी की है. पहली पत्नी से तीन बेटियां हैं. वहीं, दूसरी पत्नी से भी दो बेटी है. यह उसकी छठी बेटी है. मामले की जानकारी मिलते ही बाल कल्याण समिति के सदस्य अस्पताल पहुंचकर बच्ची का हाल जाना. समिति द्वारा सरायढेला थाने की पुलिस को बच्ची के माता-पिता को हाजिर कराने के लिए कहा गया है.

बाल कल्याण समिति के वरीय सदस्य पूनम सिंह ने बताया है कि बच्ची का स्वास्थ्य ठीक होते ही उसे बाल उपवन में बेहतर पालन पोषण के लिए रखा जाएगा.