close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटनाः मांग पर अड़े जूनियर डॉक्टर्स 23 से करेंगे हड़ताल, मरीजों को हो सकती है बड़ी परेशानी

चिकित्सा शिक्षा नीति और चिकित्सकों के बहाली की मांग और इंटर्न छात्रों को मौका नहीं देने समेत कुल आठ मांगों को लेकर वह 23 सितंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठेंगे.

पटनाः मांग पर अड़े जूनियर डॉक्टर्स 23 से करेंगे हड़ताल, मरीजों को हो सकती है बड़ी परेशानी

पटनाः एक बार फिर से सूबे के सबसे बड़े अस्पताल समेत नौ मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों ने इमरजेंसी सेवा को ठप करने का निर्णय लिया है और सरकार को चेतावनी भरे लहजे में जानकारी दी है कि, अगर उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो 23 सितम्बर से सभी जूनियर डॉक्टर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर चले जाएंगे. जिससे प्रदेश मरीजों और डॉक्टर्स दोनों की ही चिंताएं बढ़ गई हैं. पीएमसीएच समेत 9 मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर 23 सितंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है.

जूनियर डॉक्टर के अध्यक्ष शंकर भारती ने पटना मेडिकल कॉलेज के कैंपस में जूनियर डॉक्टरों के साथ बैठक कर यह निर्णय लिया है कि, चिकित्सा शिक्षा नीति और चिकित्सकों के बहाली की मांग और इंटर्न छात्रों को मौका नहीं देने समेत कुल आठ मांगों को लेकर वह 23 सितंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठेंगे.

देखें LIVE TV

डॉक्टर्स का कहना है कि वह अपनी मांगों को लेकर बिहार सरकार को कई बार पत्र लिख चुके हैं और लिखित रूप में अपनी मांगों की जानकारी सरकार को दे चुके हैं, लेकिन इसके बाद भी सरकार ने उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया और उनकी मांग को अब तक पूरा नहीं किया गया है और न ही इसे लेकर उन्हें किसी तरह का आश्वासन दिया गया है. जिसे लेकर 23 सितंबर की सुबह आठ बजे से वह इमरजेंसी सेवा समेत तमाम सेवा ठप रखेंगे. कोई भी जूनियर डॉक्टर तब तक ड्यूटी पर वापस नहीं लौटेगा, जब तक उनकी मांगें नहीं सुनी जाती.

Patna: Junior Doctor's strike from 23 september

आज पटना के दौरे पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, Article-370 पर आधारित कार्यक्रम में होंगे शामिल

जेडीए अध्यछ शंकर भारती ने मीडिया के वाट्सएप ग्रुप में यह साफ तौर पर लिखा है कि पटना मेडिकल कॉलेज के साथ राज्य के सभी आठ मेडिकल कॉलेज हड़ताल पर रहेंगे और सरकार को चेतावनी भी दी है इस बार जब तक सरकार हमारी मांग को नहीं मानेगी तब तक हड़ताल जारी रहेगी. सबसे बड़ी बात यह है कि सूबे के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच में हर दिन सैकड़ों मरीज इलाज कराने पहुंचते हैं, लेकिन हड़ताल के बाद तो मरीजों को अब भगवान भरोसे ही रहना होगा. ऐसे में जूनियर डॉक्टर्स की यह हड़ताल कहीं सरकार के लिए मुसीबत न खड़ी कर दे.