स्वच्छ भारत अभियान में गड़बड़ी को लेकर दायर याचिका, काम अधूरा छोड़ने का है आरोप

पीआईएल दायर करने वाले प्रार्थी विजय कुमार ने कहा कि सिर्फ गुमला में ही नहीं सभी जिलों में स्वच्छ भारत अभियान को लेकर सीबीआई जांच कराई जाए. कई गड़बड़ियां बाहर आएंगी. 

स्वच्छ भारत अभियान में गड़बड़ी को लेकर दायर याचिका, काम अधूरा छोड़ने का है आरोप
झारखंड के गुमला में स्वच्छ भारत अभियान में गड़बड़ी को लेकर दायर की गई याचिका.

रांची: झारखंड में नई सरकार बनने के बाद से ही पिछली सरकार के कार्यकाल पर सवालिया निशान खड़े किए जा रहे हैं. कभी विभागवार काम की स्थिति पर तो कभी योजनाओं पर. ताजा मामला गुमला का है, जहां स्वच्छ भारत अभियान को लेकर पीआईएल दायर की गई है. याचिकाकर्ता का मानना है कि शौचालय के नाम पर गुमला में करोड़ो रुपए की निकासी कर ली गई है और काम अधूरा ही रह गया है.

पीआईएल दायर करने वाले प्रार्थी विजय कुमार ने कहा कि सिर्फ गुमला में ही नहीं सभी जिलों में स्वच्छ भारत अभियान को लेकर सीबीआई जांच कराई जाए. कई गड़बड़ियां बाहर आएंगी. 

याचिकाकर्ता विजय कुमार ने कहा कि अन्य 24 जिलों में भी ऐसी गड़बड़ियां होने का शक बना हुआ है. उन्होंने याचिका में तर्क दिया है कि शौचालय बना हुआ दिखा कर पैसे की निकासी कर ली गई है. जबकि जमीनी सच्चाई कुछ और ही है.

बता दें कि पिछले दिनों सोरेन सरकार ने रघुबर दास सरकार की कई योजनाओं और नीतियों पर सवालिया निशान खड़े किए थे. सोरेन सरकार ने रघुबर दास सरकार पर यह आक्षेप भी लगाय कि उनकी कई नीतियों की वजह से सरकारी खजाने पर दबाव काफी बढ़ गया है. फिलहाल वह बेहद खराब स्थिति में है.

इतना ही नहीं सोरेन सरकार पिछली सरकार की कृषि आशीर्वाद योजना को बंद करने की तैयारी में भी है.