close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रांची: कुख्यात चोर धीरज जालान गिरोह का पर्दाफाश, जेल से कंट्रोल करता है पूरा गैंग

छापेमारी के दौरान पुलिस ने 148 चांदी के सिक्के, एक रिवॉल्वर, 9 एमएम के आठ कारतूस, एक मैगजीन, 20 लैपटॉप, 270 मोबाइल, 64 मोबाइल चार्जर, 748 हेडफोन के अलावा भारी तादाद में चेक बुक, कलाई घड़ी, लेडीज पर्स, चश्मा, हेलमेट सहित एक ट्रक से ज्यादा सामान बरामद किए.

रांची: कुख्यात चोर धीरज जालान गिरोह का पर्दाफाश, जेल से कंट्रोल करता है पूरा गैंग
रांची पुलिस ने बड़े चोर गिरोह का पर्दाफाश किया है.

रांची: झारखंड की राजधानी रांची (Ranchi) में बीती रात पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए कुख्यात चोर धीरज जालान गिरोह का पर्दाफाश किया है. इसके बाद जो तथ्य सामने आए हैं, वे बेहद चौकाने वाले हैं, क्योंकि इस गिरोह का रिमोट कंट्रोल धीरज के पास ही है, जो खूंटी की जेल में बंद है. छापेमारी में एक करोड़ से अधिक के चोरी के सामान बरामद हुए हैं. साथ ही बड़ी मात्रा में 18 देशों के करेंसी की बरामदगी भी चौकाने वाली है.

बीती रात जब रांची पुलिस (Ranchi Police) ने चोरी के आरोपी कुणाल पासवान की निशानदेही पर धीरज जालान के घर छापेमारी की तो सभी चौंक गए. रांची पुलिस की छापेमारी में चोरों का सरगना धीरज जालान के घर से 27 लाख 50 हजार इंडोनेशियन करेंसी के साथ बांग्लादेश, मलेशिया, भूटान, अफगानिस्तान, ईरान, ओमान, सऊदी अरब, वियतनाम, नेपाल, यूनाइटेड अरब अमीरात, अमेरिका, थाईलैंड और रूस सहित 18 देशों के विदेशी करेंसी भी बरामद हुई है.

इस छापेमारी में धीरज के घर से 4 लाख 50 हजार इंडियन करेंसी भी जब्त किये गए. छापेमारी के दौरान पुलिस ने 148 चांदी के सिक्के, एक रिवॉल्वर, 9 एमएम के आठ कारतूस, एक मैगजीन, 20 लैपटॉप, 270 मोबाइल, 64 मोबाइल चार्जर, 748 हेडफोन के अलावा भारी तादाद में चेक बुक, कलाई घड़ी, लेडीज पर्स, चश्मा, हेलमेट सहित एक ट्रक से ज्यादा सामान बरामद किए.

दरअसल, रांची के डोरंडा थाना क्षेत्र से डॉक्टर रंजन के कार का शीशा तोड़कर लाखों रुपए की चोरी की तफ्तीश में जुटी पुलिस को यह जानकारी मिली कि रांची के चुटिया इलाके के रहने वाला कुणाल पासवान ने इस वारदात को अंजाम दिया है. कुणाल की तलाश में जुटी पुलिस को यह मालूम चला कि वह बिहार के बाढ़ इलाके में छुपकर रह रहा है. रांची पुलिस की एक टीम तुरंत कुणाल की तलाश में निकली और आखिरकार रविवार की सुबह उसे बाढ़ से गिरफ्तार कर लिया गया. पूछताछ के दौरान कुणाल ने चौकाने वाला खुलासे किए. उसने बताया कि वह जेल में बंद कुख्यात चोर धीरज के लिए काम करता है. उसके इशारे पर गिरोह के लोगों ने रांची में 100 से अधिक चोरी की वारदातों को अंजाम दिया है. धीरज ने पुलिस को यह भी बताया कि चोरी का पूरा सामान धीरज के किशोर गंज स्थित घर पर रखा हुआ है.

बहरहाल रांची पुलिस के लिए यह एक बड़ी कामयाबी मानी जा रही है, लेकिन गिरोह के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती है. साथ ही सवाल यह भी उठता है कि आखिर जेल में रहकर इतने बड़े गिरोह का संचालन कैसे हो रहा है.
Leena Singh, News Desk