हेमंत सरकार पर बीजेपी ने किया वार, कहा- दो महीने में ही फैल गया है जंगलराज

इसलिए खजाना खाली होने का बहाना बना रही है. पारा शिक्षक, आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका, अनुबंध कर्मियों का स्थायीकरण, बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देने और ईचा-खरकई डैम रद्द करने में सरकार की मंशा नहीं दिख रही है.

हेमंत सरकार पर बीजेपी ने किया वार, कहा- दो महीने में ही फैल गया है जंगलराज
बीजेपी का सोरेन सरकार पर पलटवार, कहा- दो महीने में झारखंड में व्याप्त हो गया है जंगलराज. (फाइल फोटो)

जमशेदपुर: बिहार के जंगलराज का बुखार अब झारखंड में भी पहुंच गया है. पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के घर वापसी के बाद बीजेपी ने हेमंत सरकार पर हमला बोलना शुरू कर दिया है. आज चाईबासा में बीजेपी-जेवीएम मिलन समारोह में पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ ने हेमंत सरकार पर जोरदार हमला करते कहा कि महज दो महीने के कार्यकाल में राज्य में जंगल राज आ गया है, पूरे राज्य में हत्या, लूट जैसी घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं.

उन्होंने कहा कि सोरेन सरकार विधि-व्यवस्था में पिछले दो माह में पूरी तरह विफल साबित हो गई है. यहीं नहीं जिस तरह से सरकार चल रही है, उस हिसाब से आगे भी विधि-व्यवस्था सुधरने की कोई गुंजाइश नजर नहीं आ रही है.

बीजेपी पूर्व अध्यक्ष ने हेमंत सोरेन पर निशाना साधते कहा कि चुनाव में वादे को पूरा करने में सरकार सक्षम नहीं है. इसलिए खजाना खाली होने का बहाना बना रही है. पारा शिक्षक, आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका, अनुबंध कर्मियों का स्थायीकरण, बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देने और ईचा-खरकई डैम रद्द करने में सरकार की मंशा नहीं दिख रही है.

इसके कारण पिछली सरकार पर खजाना खाली करने आरोप लगा कर बचना चाह रही है, लेकिन बीजेपी राज्य में एक मजबूत विपक्ष के तौर पर हेमंत सरकार को बहानेबाजी नहीं चलने देगी. बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में भूमिका निभाने वाले लक्ष्मण गिलुआ ने कहा कि हेमंत सरकार या तो जनता से किए गए वादे निभाए, या गद्दी छोड़े. 

उन्होंने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है तो केंद्र सरकार, झारखंड से सोरेन सरकार को बर्खास्त करे, जनता से वादाखिलाफी किसी पाप से कम नहीं है.