close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

स्कूल वैन आग मामला: जिंदगी से हारा एक और बच्चा, हुई मौत

इस मामले में चारों आरोपियों के खिलाफ दर्ज मुक़दमे में गैर इरादतन हत्या की धारा 304 जोड़ दी गई. मामले में दो आरोपी जेल भेजे गए है. 

स्कूल वैन आग मामला: जिंदगी से हारा एक और बच्चा, हुई मौत
12 जनवरी को ज्ञानपुर थाना के लखनो गांव के पास ये हादसा हुआ था.

भदोही:  भदोही के कॉन्वेंट स्कूल की वैन में गैस सिलेंडर से लगी आग में वैन में झुलसे एक और बच्चे की शुक्रवार (18 जनवरी) को मौत होने से इस हादसे में मृतकों की संख्या दो हो गई है. अपर पुलिस अधीक्षक संजय कुमार के अनुसार, वाराणसी के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती 18 बच्चों में आज 6 साल के आयुष (6) की मौत हो गई. उन्होंने बताया कि इस मामले में चारों आरोपियों के खिलाफ दर्ज मुक़दमे में गैर इरादतन हत्या की धारा 304 जोड़ दी गई. मामले में दो आरोपी जेल भेजे गए है. 

वाराणसी के ट्रॉमा सेंटर में जिला प्रशासन की तरफ से मौजूद तहसीलदार सुनील कुमार ने बताया की 12 जनवरी को ज्ञानपुर थाना के लखनो गांव के पास स्कूल की वैन में घरेलू गैस सिलेंडर के लीकेज से लगी आग में 18 बच्चे झुलस गए थे.

इसमें आज शुक्रवार को सुरेंद्र कुमार यादव के बेटे आयुष की मौत हो गई. आयुष के ही जुड़वा भाई माही सहित रानी, प्रिंस, नैंसी, अंश, आस्था, आरुषि सिंह आई.सी.यू. में वेंटिलेटर पर है. बाकी बच्चों का इलाज जनरल बर्न वार्ड में चल रहा है. 

गुरूवार को दीक्षा यादव (5) की मौत के बाद आज शुक्रवार को दूसरी मौत से जिले के लोगों में आक्रोश है. सैकड़ों लोगों ने आज जिले के सभी आला अधिकारीयों के खिलाफ नारेबाजी की. 

आपको बता दें शनिवार की सुबह एक स्कूल वैन में सिलेंडर फटने से आग लग गई, जिससे 13 बच्चे वैन के अंदर ही झुलस गए, जिनमें से 5 की हालत गंभीर बताई जा रही है, जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद वाराणसी रेफर कर दिया गया है. मिली खबर के मुताबिक, शनिवार की सुबह एक भदोही की कॉन्वेंट स्कूल की एक वैन बच्चों को लेकर स्कूल जा रही थी.

 वैन जब कोतवाली क्षेत्र के लखनो गांव के पास पहुंची की तभी स्कूल वैन में रखे सिलेंडर में धमाका हो गया और वैन में आग लग गई. जिसके बाद ड्राइवर धदकती वैन में बच्चों को छोड़कर खुद भाग गया और बच्चे वैन में ही फंसे रहे, जिसके बाद स्थानीय महिलाओं ने बच्चों को अस्पताल से बाहर निकाला और अस्पताल में भर्ती कराया.