गर्मी बढ़ने से पहले ही देश में भीषण सूखा, 153 जिलों में अभी से जल संकट

पिछले मानसून में बारिश कम होने की वजह से आगामी महीनों में देश के कई हिस्सों में जल संकट गहरा सकता है. अभी गर्मी की शुरुआत हुई है.

गर्मी बढ़ने से पहले ही देश में भीषण सूखा, 153 जिलों में अभी से जल संकट
भीषण गर्मी से उत्पन्न सूखे के हालात की भयावहता नजर आती है.

नई दिल्ली: पिछले मानसून में बारिश कम होने की वजह से अगले कुछ महीनों में देश के कई हिस्सों में जल संकट गहरा सकता है. अभी गर्मी की शुरुआत हुई है. आने वाले महीनों में भयंकर गर्मी पड़ेगी. पिछले साल अक्टूबर से मार्च 2018 के मौसम विभाग के आंकड़ों को देखें तो देश के कुछ हिस्सों में अगले कुछ महीनों में पड़ने वाली भीषण गर्मी से उत्पन्न सूखे के हालात की भयावहता नजर आती है. मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल अक्टूबर 2017 से बारिश की स्थिति संतोषजनक नहीं रही. हालात ये हैं कि 404 जिलों में सूखे की स्थितियां बन गई हैं.

अत्यंत सूखे की कैटेगरी में 140 जिले
मौसम विभाग के मुताबिक, 404 जिलों में से 140 जिलों में अक्टूबर 2017 से मार्च 2018 की अवधि में अत्यंत सूखा करार दिया गया. 109 जिलों में मामूली सूखा, जबकि 156 जिलों में हल्के सूखे की स्थितियां बताई गईं हैं. आईएमडी डेटा से देशभर में 588 जिलों का अध्ययन करने पर पता चलता है कि 153 जिले बेहद सूखी श्रेणी में हैं. इन जिलों में जनवरी से मार्च 2018 तक की अवधि में बारिश हुई ही नहीं है. चिंताजनक बात तो यह है कि IMD की मानकीकृत वर्षा सूचकांक (एसपीआई) में गत वर्ष (जून 2017 से) मानसून के महीनों में भी 368 जिलों में हल्के से बहुत सूखे की स्थितियां दर्शायी गई हैं.

ऐसे तय होता है सूखा
स्टैंडर्ड प्रीसिपीटेशन इंडेक्स (SPI) से मौसम विभाग सूखे की स्थिति को आंकता है. इसे बारिश और सूखा मांपने के लिए +2 और -2 के दो पैमानों का इस्तेमाल होता है. यहां 2 और उससे ज्यादा के स्केल पर चरम नमी को दर्शाता है. वहीं, -2 का स्केल बेहद सूखे की स्थिति को दर्शाता है. अन्य स्थितियों में इनके बीच की सीमाओं को दर्शाती है, इसे गंभीर रूप से गीले से लेकर गंभीर सूखे तक शामिल है. एसपीआई (SPI) को दुनिया भर में बारिश मांपने के लिए एक सटीक उपाय माना गया है. आईएमडी के जलवायु डेटा प्रबंधन और सेवा के प्रमुख पुलक गुहाथुकुता के मुताबिक, यह सामान्य बारिश की तुलना में किसी विशेष स्थान पर सूखापन या नमी की सीमा को दर्शाता है.

Met Department, Weather Forecast, Monsoon First forecast, rainfall, Severe droughts, droughts in 153 districts
एसपीआई आंकड़ों में यह दर्शाया गया है कि 472 जिलों में सूखे से ग्रस्त हैं.

सर्दियों में कम बारिश से बिगड़ते हालात
हर साल गर्मी के दौरान देश के कई हिस्सों में पानी की कमी का सामना करना पड़ता है. सर्दियों में होने वाली बारिश में कमी इस साल और खराब स्थिति का सबसे बड़ा कारण है. आईएमडी डेटा के मुताबिक, इस साल जनवरी और फरवरी में पूरे भारत में 63% कम बारिश हुई है. मार्च से 11 अप्रैल तक 31% कम बारिश हुई है.

153 जिलों में भीषण सूखा
टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, जनवरी से मार्च के बीच लिए गए एसपीआई आंकड़ों में यह दर्शाया गया है कि 472 जिलों में सूखे से ग्रस्त हैं. वहीं, इनमें से 153 जिलों में भीषण सूखे की स्थिति है. ज्यादातर सूखे की स्थिति वाले जिलों में अधिकांश उत्तर, मध्य और पश्चिम भारत में हैं, साथ ही पूर्व में बिहार और झारखंड जैसे कुछ स्थानों में भी सूखे की स्थिति है. 

उत्तर-पश्चिम भारत में सबसे कम बारिश
उत्तर-पश्चिम भारत में सबसे कम बारिश हुई है. इनमें तीन पहाड़ी राज्यों के अलावा पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान शामिल हैं. इन राज्यों में पिछले मॉनसून के सीजन में 10 फीसदी कम बारिश हुई. अक्टूबर से दिसंबर के बीच 54 फीसदी कम बारिश हुई. वहीं, जनवरी से फरवरी 2018 के बीच 67 फीसदी कम बारिश हुई.

सूखे का पूर्वानुमान नहीं
पुलक गुहाथुकुता ने साफ किया कि एसपीआई डाटा देश के कई हिस्सों में पानी के संकट की संभावना का संकेत देता है, यह सूखे का पूर्वानुमान बिल्कुल नहीं बताता. अधिकारी ने कहा, "यह जिला प्रशासनों का काम है, जो अपने क्षेत्रों में पानी की उपलब्धता की स्थिति पर गौर करें."

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close