दिल्‍ली-NCR में 2 दिनों से धूल भरी आंधी क्‍यों चल रही है?

दिल्ली-एनसीआर इलाके में पीएम-10 (10 मिमी से कम व्यास वाले कण) का स्तर 778 पर ‘अत्यंत गंभीर ’ से ऊंचा है और दिल्ली में यह विशेषकर 824 पर है.

दिल्‍ली-NCR में 2 दिनों से धूल भरी आंधी क्‍यों चल रही है?
दिल्‍ली-एनसीआर में धुंध की स्थिति है, जिससे दृश्यता का स्तर सीमित है.

नई दिल्‍ली: राष्‍ट्रीय राजधानी समेत देश के उत्‍तरी हिस्‍से में पिछले दो दिनों से धूल भरी आंधियां चल रही हैं. इस कारण मंगलवार शाम से ही दिल्‍ली-एनसीआर में धुंध छाई रही और हवा में अजीब सी गर्माहट महसूस होती रही. इस संबंध में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के आधार पर कहा जा रहा है कि पश्चिम भारत में धूल भरी आंधी के कारण दिल्ली में हवा की गुणवत्ता अत्‍यधिक ‘गंभीर’ स्‍तर तक पहुंच गई है. आंधी के कारण हवा में मोटे कणों की बढ़ोतरी हुई है.

सीपीसीबी के आंकड़े
सीपीसीबी के आंकड़े के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर इलाके में पीएम-10 (10 मिमी से कम व्यास वाले कण) का स्तर 778 पर ‘अत्यंत गंभीर’ से ऊंचा है और दिल्ली में यह विशेषकर 824 पर है. इसके कारण धुंध की स्थिति है जिससे दृश्यता का स्तर सीमित है. केंद्र सरकार द्वारा संचालित सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च इंस्टीच्यूट के एक वैज्ञानिक गुफ्रा न बेग ने बताया कि धूल भरी आंधी ने दिल्ली-एनसीआर में वायु की गुणवत्ता बिगाड़ दी है.

बवंडर/तूफान ने इस कारण लोगों को डराया और मचाई तबाही...

उन्होंने बताया, ''देश के पश्चिमी हिस्से में धूल भरी आंधी से हवा में भारी पैमाने पर मोटे कणों की बढ़ोतरी हुई है जिसके कारण दिल्ली में प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी हुई है.'' उन्होंने बताया कि आने वाले दिनों में हवा की गुणवत्ता में सुधार होगा. बेग ने बताया, ''तेज रफ्तार (30-40 किमी/घंटा) में चलने वाली आंधी के साथ इस तरह की धूल भरी आंधी काफी देर तक नहीं रहेगी क्योंकि बुधवार शाम तक वायु की गुणवत्ता सामान्य स्तर पर लौट आएगी.'' सीपीसीबी के मुताबिक, दिल्ली में कई जगहों पर वायु गुणवत्ता सूचकांक 500 स्तर को पार कर गया है. पूर्वी दिल्ली के आनंद विहार इलाके में 891 एक्यूआई दर्ज किया गया.

भीषण गर्मी का दौर जारी
पिछले 24 घंटे में यदि देश भर के मौसम के मिजाज पर नजर डाली जाए तो उत्तर भारत में भीषण गर्मी का दौर जारी है.हिमाचल प्रदेश के उच्च और मध्य पहाड़ी इलाकों में अलग-अलग स्थानों पर छिटपुट बारिश हुई. मौसम विभाग ने मध्य पहाड़ी क्षेत्रों में अगले छह दिनों तक बारिश और गरज के साथ छींटे पड़ने का पूर्वानुमान लगाया है. उच्च एवं मध्य पहाड़ी इलाकों में 15 जून से बारिश एवं बर्फ गिरने की संभावना है. पंजाब और हरियाणा के अधिकतर इलाकों में भीषण गर्मी की स्थिति कायम रही. अमृतसर और पटियाला में पारा 42.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया. मौसम विभाग ने दो दिनों के बाद यहां हल्की एवं मध्यम बारिश होने का पूर्वानुमान लगाया है.

अगले 72 घंटे तबाही मचाएगा तूफान, 16 राज्यों में बिजली कड़कने के साथ भारी बारिश की चेतावनी

राष्ट्रीय राजधानी में मौसम गर्म और उमस भरा रहा और तापमान 41.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. राजस्थान के भी कई हिस्सों में लू चलना जारी रही, जहां मानसून पूर्व बारिश से दिन के तापमान में थोड़ी गिरावट दर्ज किया गया. तापमान जैसलमेर में सबसे अधिक 43.8 डिग्री सेल्सियस और फिर श्रीगंगानगर में 43 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

उत्तर प्रदेश में मौसम शुष्क बना रहा. कानपुर राज्य का सबसे गर्म प्रदेश रहा जहां 44.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विज्ञान विभाग ने 14 जून से उत्तर प्रदेश पूर्वी क्षेत्र के अलग - अलग हिस्सों में बारिश और आंधी तूफान चलने की संभावना है. मौसम वैज्ञानिक ने जम्मू में अगले तीन दिनों तक मौसम शुष्क रहने के साथ ही तापमान में बढ़ोतरी की संभावना जताई है.

आंधी(Storms)
वातावरण की वह बिगड़ी हुए दशा है जिसमें तेज हवाएं होती हैं. उच्‍च दबाव के क्षेत्र के केंद्र में कम दबाव की स्थितियां उत्‍पन्‍न होने के कारण आंधी की दशाएं उपजती हैं. इसमें धूल, नमी के कारण इनको अंधड़, तूफान जैसी विभिन्‍न श्रेणियों में विभाजित किया जाता है.

(इनपुट: भाषा से भी)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close