रामनाथ कोविंद बने एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार, कांग्रेस, लेफ्ट समेत अन्य पार्टियां और मुख्यमंत्रियों ने दीं ये प्रतिक्रियाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर राष्ट्रपति पद के लिए रामनाथ कोविंद का नाम आगे कर सभी को आश्चर्य में डाल दिया है. राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) ने सोमवार को राष्ट्रपति पद के लिए अपने उम्मीदवार के रूप में रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा की. रामनाथ कोविंद दलित समुदाय से आते हैं. कोविंद यदि राष्ट्रपति बन जाते हैं तो वह देश के 14वें, उत्तर प्रदेश से आने वाले पहले और देश के दूसरे दलित राष्ट्रपति होंगे. पूर्व राष्ट्रपति के आर नारायणन दलित समुदाय से थे. नीलम संजीव रेड्डी एकमात्र राष्ट्रपति थे जिन्हें निर्विरोध चुना गया था. वह 1977 से 1982 तक देश के राष्ट्रपति रहे. एनडीए द्वारा कोविंद को राष्ट्रपति उम्मीदवार चुने जाने पर विपक्षी पार्टियों और सत्ता पक्ष ने अपनी प्रतिक्रिया इस प्रकार दी.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: Jun 19, 2017, 11:47 PM IST
रामनाथ कोविंद बने एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार, कांग्रेस, लेफ्ट समेत अन्य पार्टियां और मुख्यमंत्रियों ने दीं ये प्रतिक्रियाएं
रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर राष्ट्रपति पद के लिए रामनाथ कोविंद का नाम आगे कर सभी को आश्चर्य में डाल दिया है. राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) ने सोमवार को राष्ट्रपति पद के लिए अपने उम्मीदवार के रूप में रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा की. रामनाथ कोविंद दलित समुदाय से आते हैं. कोविंद यदि राष्ट्रपति बन जाते हैं तो वह देश के 14वें, उत्तर प्रदेश से आने वाले पहले और देश के दूसरे दलित राष्ट्रपति होंगे. पूर्व राष्ट्रपति के आर नारायणन दलित समुदाय से थे. नीलम संजीव रेड्डी एकमात्र राष्ट्रपति थे जिन्हें निर्विरोध चुना गया था. वह 1977 से 1982 तक देश के राष्ट्रपति रहे. एनडीए द्वारा कोविंद को राष्ट्रपति उम्मीदवार चुने जाने पर विपक्षी पार्टियों और सत्ता पक्ष ने अपनी प्रतिक्रिया इस प्रकार दी.

गुलाम नबी आजाद (कांग्रेस)
कांग्रेस ने भाजपा के राष्ट्रपति उम्मीदवार पर आम सहमति बनाने की अपील को खारिज करते हुए कहा कि विपक्ष 22 जून को बैठक कर राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के बारे में फैसला करेगा. कांग्रेस के महासचिव गुलाम नबी आजाद ने भाजपा द्वारा बिहार के राज्यपाल को रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति उम्मीदवार घोषित करने के कुछ ही समय बात प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि यह एक पक्षीय निर्णय है. उन्होंने भाजपा के वरिष्ठ नेताओं द्वारा विपक्ष से संपर्क को एक औपचारिकता और पीआर (जन संपर्क) प्रक्रिया करार दिया. उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ दल को उम्मीदवार की घोषणा करने से पहले आम सहमति बनानी चाहिए. आजाद ने कहा, किन्तु उन्होंने इस निर्णय की घोषणा के बाद हमें सूचित किया लिहाजा अब आम सहमति की कोई गुंजाइश नहीं है. हम सत्तारूढ़ पार्टी से इस तरह की उम्मीद नहीं कर रहे थे. किन्तु यह उनकी इच्छा है, वे एक पक्षीय निर्णय करने के लिए स्वतंत्र हैं. कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह एवं एम वेंकैया नायडू जब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से पिछले सप्ताह मिले थे तो किसी नाम पर चर्चा नहीं हुई थी. भाजपा द्वारा देश के शीर्ष पद के लिए एक दलित उम्मीदवार को खड़ा किये जाने पर प्रतिक्रिया पूछने पर आजाद ने कहा, मैं इस पर प्रतिक्रिया नहीं व्यक्त करना चाहता. मैं उम्मीदवार के गुण दोष पर टिप्पणी नहीं करना चाहता. राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि अल्पसंख्यक, पिछड़े एवं दलित भाजपा नीत सरकार की प्राथमिकता नहीं हैं.

सीताराम येचुरी (सीपीएम)
माकपा ने कहा कि भाजपा ने एकतरफा तरीके से बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को एनडीए का राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार चुना है और विपक्ष 17 जुलाई को होने वाले चुनाव से पहले 22 जून को अपनी रणनीति पर फैसला करेगा. माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि गैर-एनडीए दल देश के इतिहास को ध्यान में रखते हुए फैसला करेंगे कि एक बार को छोड़कर सत्तारूढ़ और विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति चुनाव लड़ा है. येचुरी ने कहा, एनडीए का प्रस्ताव था कि वे अपने उम्मीदवार का नाम सोचकर विपक्ष से बात करेंगे. उन्होंने विपक्ष से बात नहीं की और अपने उम्मीदवार का नाम घोषित कर दिया. उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने उन्हें सत्तारूढ़ पार्टी के फैसले के बारे में सूचित किया. नायडू भाजपा की उस तीन सदस्यीय समिति के सदस्य थे जिसने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर आम-सहमति बनाने के लिए विपक्षी दलों के नेताओं से बात की. येचुरी ने कहा, इसलिए, हमने कहा है कि विपक्ष 22 जून को बैठक करेगा और फैसला करेगा. सभी विपक्षी दल एक ही निर्णय पर पहुंचने का प्रयास करेंगे.

सुधाकर रेड्डी (सीपीआई)
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने कहा कि विपक्ष को रामनाथ कोविंद के खिलाफ अपना उम्मीदवार अवश्य खड़ा करना चाहिए. कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सुरावरम सुधाकर रेड्डी ने यहां बताया, कोविंद भी संघ से हैं. वह भाजपा के दलित मोर्चा के अध्यक्ष रहे हैं जो कि संघ परिवार का संगठन है. निश्चित रूप से हम उम्मीदवार खड़ा करेंगे. संघ से चाहे कोई भी हो. हम मुकाबला करेंगे. भाकपा नेता ने कहा कि उनकी पार्टी यह महसूस करती है कि विपक्ष को अवश्य उम्मीदवार खड़ा करना चाहिए. हमारे सहयोगियों और अन्य दलों के साथ विचार विमर्श करने के बाद इस बारे में फैसला किया जाएगा. 

ममता बनर्जी (टीएमसी)
राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए प्रत्याशी रामनाथ कोविंद की उम्मीदवारी पर वस्तुत: आपत्ति जताते हुए तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने दावा किया कि बिहार के राज्यपाल को सिर्फ इसलिए चुना गया है क्योंकि वह विगत में भाजपा के दलित मोर्चा के नेता रहे हैं. ममता ने एक बयान में कहा, देश में कई अन्य बड़े दलित नेता हैं. सिर्फ इसलिए कि वह (कोविंद) भाजपा के दलित मोर्चा के नेता थे, उन्हें नामित किया गया. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता ने कहा, राष्ट्रपति का पद एक अहम पद होता है. प्रणब मुखर्जी के कद के किसी नेता को या सुषमा स्वराज या आडवाणी जी को उम्मीदवार बनाया जा सकता था. उन्होंने कहा, किन्हीं को समर्थन देने के लिए हमें उन्हें जानना चाहिए. उम्मीदवार ऐसे होने चाहिए जो देश के लिए फायदेमंद हों. विपक्ष की 22 जून को बैठक होगी, उसके बाद हम अपने फैसले की घोषणा कर सकते हैं. ममता ने हालांकि कहा कि वह यह नहीं कह रहीं हैं कि बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति पद के लिए योग्य नहीं हैं. ममता ने कहा कि उन्होंने विपक्ष के दो तीन नेताओं से बातचीत की है और वे भी चकित हैं. देश में अन्य बड़े नेता हैं.

संजय राउत (शिवसेना)
शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए उम्मीदवार को समर्थन देने के मुद्दे पर फैसला करने के लिए पार्टी नेताओं की बैठक बुलाएंगे. राउत ने कहा, अमित शाह ने भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक में राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए का उम्मीदवार तय किए जाने के बाद उद्धवजी से बात की. उन्होंने कहा, उद्धवजी ने उनसे कहा कि वह किसी फैसले पर पहुंचने के लिए पार्टी नेताओं की बैठक बुलाएंगे और एक-दो दिन में उन्हें अपना जवाब देंगे. राउत ने कहा, हमने पद के लिए दो नाम सुझाए थे. एक नाम (आरएसएस प्रमुख) मोहन भागवत का था. यदि उन्हें इससे समस्या थी तो हम जाने-माने कृषि विशेषज्ञ एमएस स्वामीनाथन को चाहते थे. लेकिन क्योंकि उन्होंने अन्य नाम तय कर लिया है, लिहाजा पार्टी अपने फैसले के बारे में भाजपा को जल्द अवगत कराएगी.

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी)
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार तय करने को लेकर 22 जून को दिल्ली में होने वाली यूपीए की बैठक में हिस्सा लेगी. पार्टी प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा, यूपीए में शामिल सभी दल 22 जून को शाम चार बजे होने वाली बैठक में भाग लेकर तय करेंगे कि हमारी ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार कौन होगा. राकांपा भी इसका हिस्सा होगी. यहां जारी एक बयान में, मलिक ने कहा कि राष्ट्रपति पद के चुनाव को लेकर विपक्षी दलों का रूख भी बैठक में ही तय होगा. 

मायावती (बसपा)
बहुजन समाज पार्टी (बसपा) मुखिया मायावती ने भाजपा नीत एनडीए द्वारा दलित नेता रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने पर कहा कि कोविंद के प्रति उनकी पार्टी का रूख सकारात्मक है, बशर्ते विपक्ष की ओर से दलित वर्ग का कोई प्रत्याशी ना उतारा जाए. मायावती ने आज यहां संवाददाताओं से कहा, हालांकि कोविंद शुरू से ही भाजपा से जुड़े रहे हैं लेकिन उनके दलित होने के नाते उनके प्रति हमारी पार्टी का रूख नकारात्मक नहीं होगा, अर्थात सकारात्मक ही रहेगा. बशर्ते विपक्ष से कोई दलित वर्ग का व्यक्ति इस पद के चुनाव के लिए नहीं उतरता है. उन्होंने कहा कि कोविंद कोई पहले दलित नहीं हैं, जिन्हें राष्ट्रपति पद के लिए सामने लाया गया है. इससे पहले दलित वर्ग से के. आर. नारायणन राष्ट्रपति रहे चुके हैं. मायावती ने कहा कि अगर कोविंद का नाम तय करने से पहले सभी विपक्षी पार्टियां को विश्वास में ले लिया जाता तो अच्छा रहता. अगर भाजपा और एनडीए इस पद के लिए दलित वर्ग से किसी गैर राजनीतिक व्यक्ति को आगे करते तो बेहतर होता.

नीतीश कुमार (जदयू)
रामनाथ कोविंद को एनडीए द्वारा राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने के पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि यह उनके लिए व्यक्तिगत तौर पर एक खुशी का मौका है। हालांकि उन्होंने कोविंद की उम्मीदवारी को समर्थन देने के सवाल पर कुछ भी साफ नहीं कहा. उन्होंने कहा, 'जहां तक समर्थन का सवाल है मैं अभी कुछ नहीं कह सकता.' उन्होंने कहा, हमारी लालू जी से भी बातचीत हुई है. सोनिया जी का भी फोन आया था. मैंने अपनी भावना से अवगत भी कराया है. लेकिन इन सब चीजों पर आगे भी बातचीत होगी. मेरे लिए व्यक्तिगत तौर पर यह प्रसन्नता की बात है कि बिहार के राज्यपाल देश के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार घोषित हुए हैं. उन्होंने कहा कि परसों रात केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली का फोन आया था पर बातचीत में नाम का जिक्र नहीं हुआ था. नीतीश ने कहा कि विपक्ष की आपस में बातचीत होती रहती है. सीपीएम नेता सीताराम येचुरी का भी फोन आया था. अहमद पटेल जी से भी बात हुई थी. विपक्षी पार्टियां 22 जून के आसपास अपना निर्णय लेगी. लालकृष्ण आडवाणी के नाम के संबंध में पूछे गए प्रश्न पर मुख्यमंत्री ने कहा था कि यह भारतीय जनता पार्टी के अन्दर की बात है.

वाईएसआर कांग्रेस
आंध्र प्रदेश में विपक्षी वाईएसआर कांग्रेस पार्टी ने एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को अपना समर्थन देने की घोषणा की. वाईएसआरसी के अध्यक्ष वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने ऐलान किया कि उनकी पार्टी देश के सर्वोच्च पद के लिए कोविंद की उम्मीदवारी का समर्थन करेगी क्योंकि वह एक दलित नेता हैं. जब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज जगन से फोन पर बात करके राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए के उम्मीदवार को वाईएसआरसी पार्टी का समर्थन मांगा तो जगन ने समर्थन देने का आश्वासन दिया. जगन ने पिछले महीने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी और घोषणा की थी कि उनकी पार्टी अगले महीने होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार को समर्थन देगी. वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के 10 सांसद और 66 विधायक हैं.

तेलगु देशम पार्टी (टीडीपी)
एनडीए की सहयोगी तेलगु देशम पार्टी ने राष्ट्रपति चुनावों के लिए गठबंधन के उम्मीदवार के तौर पर भाजपा द्वारा बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद के नाम के चयन का स्वागत किया है. तेदपा अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने कोविंद की उम्मीदवारी की प्रशंसा करते हुए इसे सर्वोच्च संवैधानिक पद के लिए सही फैसला बताया. उन्होंने कोविंद को अपनी पार्टी के पूर्ण समर्थन का भी भरोसा दिया.

रामविलास पासवान (लोजपा)
केन्द्रीय मंत्री और लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान ने बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित करने का स्वागत करते हुए विपक्षी दलों से भी उनके नाम पर सर्वानुमति कायम करने का आहवान किया है. पासवान ने भाजपा संसदीय दल की बैठक में कोविंद के नाम का ऐलान होने के बाद अपनी प्रतिक्रिया में इसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ऐतिहासिक फैसला बताया. उन्होंने कहा कि दलितों के हितों की लड़ाई सड़क से संसद और अदालतों तक लड़ने वाले कोविंद राष्ट्रपति पद के लिए सवर्था योग्य उम्मीदवार हैं. पासवान ने विपक्षी दलों से भी कोविंद के नाम पर सर्वानुमति कायम करने की अपील करते हुए कहा कि उनके नाम का विरोध करने वाले दल दलित विरोधी माने जाएंगे. उन्होंने कोविंद के चयन को मोदी सरकार का मास्टर स्ट्रोक बताते हुए इसे उन दलों के गाल पर करारा तमाचा बताया जो अब तक एनडीए सरकार को दलित विरोधी बता रहे थे.

योगी आदित्यनाथ (यूपी के सीएम)
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर निवासी वरिष्ठ भाजपा नेता रामनाथ कोविंद को केन्द्र में सत्तारूढ़ एनडीए द्वारा राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने को देश के दलित समुदाय का सर्वोच्च सम्मान करार देते हुए सभी सियासी पार्टियां से दलगत भावना से ऊपर उठकर कोविंद के समर्थन की अपील की. मुख्यमंत्री ने कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाये जाने के बाद आनन-फानन बुलाई गई प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने दलित समुदाय को महत्व देकर राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी के रूप में कोविंद का चयन किया है. उन्होंने कहा कि कोविंद का लम्बा सार्वजनिक जीवन रहा है और उनकी सेवाओं को देखते हुए एक दलित को, उत्तर प्रदेश के गांव में पले हुए एक अत्यन्त गरीब परिवार के व्यक्ति को यह सम्मान देना वास्तव में प्रदेश की 22 करोड़ जनता के साथ-साथ देश के दलित समुदाय के लिए भी सर्वोच्च सम्मान है. योगी ने कहा कि देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद पर एक दलित को बैठाकर देश में एक नई सामाजिक चेतना का जो जागरण प्रारम्भ हुआ है, उसके लिये मैं उत्तर प्रदेश की जनता की ओर से प्रधानमंत्री और भाजपा अध्यक्ष का दिल से आभार प्रकट करता हूं. उन्होंने कहा, सभी राजनीतिक दलों से मेरी अपील है कि उत्तर प्रदेश के लाल रामनाथ कोविंद को दलगत भावनाओं से उठकर राष्ट्रपति बनाने में योगदान दें. यह मेरी सरकार की ओर से और व्यक्तिगत तौर पर भी अपील है.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (विदेश मंत्री)
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने एनडीए का राष्ट्रपति पद उम्मीदवार बनने पर बिहार के राज्यपाल राम नाथ कोविंद को बधाई दी. उन्होंने ट्वीट किया, रामनाथ कोविंद जी को भारत के राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार नामित किए जाने पर तहे दिल से बधाई. सुषमा ने शनिवार को उन खबरों को अफवाह कह कर खारिज किया था कि वह राष्ट्रपति पद के लिए दावेदार हैं.

रघुवर दास (झारखंड के सीएम)
झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राष्ट्रपति पद के एनडीए के घोषित उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को सौम्य, विद्वान एवं संविधानविद बताते हुए उन्हें बधाई दी है. दास ने कहा कि उनके लंबे अनुभव का लाभ देश को मिलेगा. लोकतांत्रिक मूल्यों को और उंचाई मिलेगी. उन्होंने कहा कि सार्वजनिक जीवन में रामनाथ कोविंद का आचरण अनुकरणीय रहा है.

वसुंधरा राजे (राजस्थान की सीएम)
राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को भाजपा द्वारा राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने के निर्णय का स्वागत किया है. राजे ने कोविंद को राष्ट्रपति चुनाव के लिए अग्रिम शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में समाज के सभी वर्गो के उत्थान के लिए अथक परिश्रम किया और एक साधारण परिवार से भारत के राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी तक का सफर तय किया है. वे समाज के वंचित वर्ग को अधिकार दिलाने एवं उनके सशक्तीकरण के प्रखर पैरोकार रहे है. उन्होंने कहा कि रामनाथ कोविंद का अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों के हितों के संरक्षण में महत्वपूर्ण योगदान रहा है. मुख्यमंत्री ने कहा कि संवैधानिक मामलों के जानकार कोविंद के राष्ट्रपति बनने से देश को उनकी दूरदशर्तिा और संविधान की गहरी समझ का लाभ मिलेगा.

मनोहरलाल खट्टर (हरियाणा के सीएम)
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार नामित किए जाने पर उन्हें बधाई दी. यहां जारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार मुख्यमंत्री के अलावा राज्य के कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने भी कोविंद को बधाई दी. 

नवीन पटनायक (ओडिशा के सीएम)
बीजू जनता दल (बीजद) अध्यक्ष और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को अपनी पार्टी के समर्थन की घोषणा की.