उपचुनाव में मिली हार पर बोले योगी आदित्यनाथ, जनता ने अप्रत्याशित फैसला दिया

योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'लोकसभा उपचुनाव के परिणाम हमारे लिए एक सबक है। इसकी समीक्षा आवश्यक है। उप चुनाव में स्थानीय मुद्दे हावी होते हैं' 

उपचुनाव में मिली हार पर बोले योगी आदित्यनाथ, जनता ने अप्रत्याशित फैसला दिया
योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'लोकसभा उपचुनाव के परिणाम हमारे लिए एक सबक है. इसकी समीक्षा आवश्यक है. (फोटो साभार - ANI)
Play

लखनऊ : यूपी उपचुनाव में बीजेपी की करारी हार के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'जनता ने अप्रत्याशित फैसला दिया है. हम जनता के फैसले को स्वीकार करते हैं.' उन्होंने कहा कि यूपी में राजनीतिक सौदेबाजी हुई.  उन्होंने कहा  हम लोगों ने पूरी मेहनत की लेकिन क्या कमी रही इसकी हम समीक्षा करेंगे. योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'लोकसभा उपचुनाव के परिणाम हमारे लिए एक सबक है. इसकी समीक्षा आवश्यक है. उप चुनाव में स्थानीय मुद्दे हावी होते हैं.' 

'बीएसपी-एसपी की राजनीतिक सौदेबाजी' 
योगी ने कहा कि बीएसपी-एसपी की राजनीतिक सौदेबाजी देश के विकास को बाधित करने के लिए बनी है. इसके बारे में हम अपनी रणनीति तैयार करेंग.   वहीं फूलपुर के पूर्व सांसद और प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, 'हमें उम्मीद नहीं थी कि बसपा का वोट इस तरह से सपा की तरफ ट्रांसफर हो जाएगा. आखिरी नतीजे आने के बाद हम विश्लेषण करेंगे और हम ऐसी परिस्थितियों के लिए भी तैयारी करेंगे, जबकि सपा-बसपा और कांग्रेस साथ मिलकर लड़ सकते हैं.

वहीं यूपी बीजेपी प्रमुख महेंद्र नाथ पांडे ने कहा कि मतदान का प्रतिशत कम रहने से दोनों सीटों के नतीजों पर असर डाला है. जहां-जहां हम चूके वहां हम समीक्षा करेंगे और 2019 के चुनाव में शानदार प्रदर्शन करने के लिए कड़ी मेहनत करेंगे. ' 

उपचुनाव में मिली शानदार जीत के बाद बोले तेजस्वी - एक विचारधारा का नाम है लालू

बता दें समाजवादी पार्टी ने गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में शानदार प्रदर्शन किया है. समाजवादी पार्टी के नगेंद्र प्रताप सिंह पटेल ने भाजपा के कौशलेंद्र सिंह पटेल को59,460 वोट से हराकर फूलपुर लोकसभा उपचुनाव जीत लिया है. वहीं गोरखपुर उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के प्रवीण कुमार निषाद जीते. गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव के लिये मतदान गत 11 मार्च को हुआ था. गोरखपुर सीट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के और फूलपुर सीट उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य के विधान परिषद की सदस्यता ग्रहण करने के बाद दिए गए त्यागपत्र के कारण खाली हुई हैं.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close