31 दिसंबर के बाद इन फोन्स पर बंद हो जाएगा WhatsApp, कहीं आपका फोन तो नहीं?

पिछले कुछ दिनों में कई नए फीचर लाने के बाद इंस्टेंट मैसेजिंग एप व्हाट्सएप (WhatsApp) जल्द ही एक और बदलाव करने वाला है. अगर आप भी ऑफिशियली और नॉन-ऑफिशियली व्हाट्सएप (WhatsApp) यूज करते हैं तो यह खबर आपको झटका दे सकती है.

31 दिसंबर के बाद इन फोन्स पर बंद हो जाएगा WhatsApp, कहीं आपका फोन तो नहीं?

नई दिल्ली : पिछले कुछ दिनों में कई नए फीचर लाने के बाद इंस्टेंट मैसेजिंग एप व्हाट्सएप (WhatsApp) जल्द ही एक और बदलाव करने वाला है. अगर आप भी ऑफिशियली और नॉन-ऑफिशियली व्हाट्सएप (WhatsApp) यूज करते हैं तो यह खबर आपको झटका दे सकती है. जी हां, WhatsApp के कुछ यूजर्स के लिए बुरी खबर है. 31 दिसंबर 2018 के बाद व्हाट्सएप कुछ पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम पर अपना सपोर्ट बंद करने वाला है. अगर आपका फोन भी इसी ऑपरेटिंग सिस्टम पर रन करता है 4तो आपके फोन पर भी व्हाट्सएप 1 जनवरी से बंद हो जाएगा.

इस कारण बंद हो जाएगा व्हाट्सएप
दरअसल व्हाट्सएप की तरफ से नोकिया के पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम Nokia S40 पर सपोर्ट बंद करने का निर्णय लिया गया है. इसलिए जिन यूजर्स के पास भी Nokia S40 ऑपरेटिंग सिस्टम वाला फोन है तो वे WhatsApp यूज नहीं कर पाएंगे. इसके पीछे कारण यह है कि मैसेजिंग एप (WhatsApp) अब इस ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए फीचर डेवलप नहीं करता. Nokia S40 ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले फोन में WhatsApp के कुछ फीचर्स कभी भी बंद हो सकते हैं.

एक साल बाद इन ओएस पर भी बंद होगा
आने वाले दिनों में व्हाट्सएप इसके अलावा और भी कई ऑपरेटिंग सिस्टम पर बंद हो सकता है. 1 फरवरी 2020 के बाद एंड्रायड 2.3.7 और इससे पुराने वर्जन के अलावा iPhone iOS7 और इससे पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम पर भी व्हाट्सएप काम नहीं करेगा. WhatsApp की तरफ से एक बयान में कहा गया कि यह फैसला इसलिए लिया गया है क्योंकि हम इन प्लेटफॉर्म के लिए सक्रियता के साथ फीचर्स नहीं डेवलप करेंगे. कुछ फीचर्स किसी भी समय बंद हो सकते हैं.

इससे पहले व्हाट्सएप ने विडोज फोन 8.0 (Windows Phone 8.0), ब्लैकबेरी OS (Blackberry) और ब्लैकबेरी 10 (Blackberyy 10) के लिए 31 दिसंबर 2017 से सपोर्ट कर दिया था. इसके ठीक एक साल बाद अब फिर व्हाट्सएप की तरफ से कुछ और प्लेटफॉर्म के लिए ऐसा ही किया जा रहा है. 31 दिसंबर 2017 के बाद विडोज फोन 8.0, ब्लैकबेरी OS और ब्लैकबेरी 10 रखने वालों को परेशानी हुई थी और उन्हें मजबूरी में अपना फोन बदलना पड़ा था.