close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहारः अफवाह के कारण लड़के ने किया शादी से इनकार, तो थाने में हुई शादी

बिहार के गया जिले के शेरघाटी थाना क्षेत्र में शादी टूटने के बाद पुलिस की पहल से शादी कराई गई. बताया जाता है कि शादी के पहले अफवाह के कारण लड़के ने शादी करने से इनकार कर दिया. 

बिहारः अफवाह के कारण लड़के ने किया शादी से इनकार, तो थाने में हुई शादी
गया में थाने में कराई गई शादी.

जय प्रकाश/गयाः बिहार के गया जिले के शेरघाटी थाना क्षेत्र में शादी टूटने के बाद पुलिस की पहल से शादी कराई गई. बताया जाता है कि शादी के पहले अफवाह के कारण लड़के ने शादी करने से इनकार कर दिया. जिसके बाद लड़की वालों ने पुलिस का सहारा लिया. बाद में पुलिस के संरक्षण में शादी कराई गई.

गया के विशुनपुरा गांव निवासी रामनंदन रविदास के पुत्री 19 वर्षीय आरती कुमारी ने गुरुआ थानां क्षेत्र के जयपुर गांव निवासी सुरेश रविदास के पुत्र संदीप से 3 साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था. यहां तक दोनो के बीच 3 अप्रैल को बैजुधाम मंदिर में शादी के लिए कार्ड भी छप गए थे. लेकिन लड़के को लड़की के बारे में किसी ने गलत अफवाह फैला दी गई. जिसके बाद लड़के ने शादी के लिए इंकार कर दिया.

शादी टूटने के बाद लडक़ी पक्ष ने महिला थाना में आवेदन दे कर गुहार लगाई. जिसके बाद लड़के ओर लड़के के परिवार को थाना बुलाया ओर लड़का और लड़की के बीच गलत फहमी को दूर कराया गया. साथ ही रजामंदी कराया गया, जिसके बाद दोनों के बीच आज महिला थानाध्यक्ष रंजना कुमारी के देखरेख में थाना परिसर में दोनो को शादी कराया गया. इस बीच दोनों परिवार के साथ साथ काफी संख्या में महिला पुरूष शामिल थे. और दोनों को एक साथ रहने का आशीर्वाद दिया.

लड़की आरती कुमारी ने बताई कि पिछले 3 साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था. लड़के ने किसी के बहकावे में आकर शादी से इंकार कर दिया था. तब मैं थाने में आवेदन दिया, जिसके बाद गलतफहमी को दूर कर शादी कराया गया. लड़के ने बताया कि किसी के गलतफहमी में आकर मैंने शादी से इंकार किया था. परंतु आज मैं अपनी रजामंदी से थाना में शादी कर रहा हूं. वहीं लड़के के पिता भी इस शादी से काफी खुश है.

वहीं महिला थानाध्यक्ष रंजना कुमारी ने बताया कि कुछ दिन पहले लड़की और लड़की के परिवार वाले थाना में आये थे और 3 अप्रैल को शादी का कार्ड लेकर आये थे. जिसमें दोनो का कार्ड में नाम छपा हुआ था. लड़के और लड़के के परिवार को थाना बुलाया जिसके बाद गलत फहमी को दूर कराया गया और दोनों परिवार के रजामंदी से थाना में लड़के ने लड़की शादी कराई गई.