बिहार चुनाव: फारबिसगंज में गरजे PM, बोले- राज्य ने डबल युवराज और जंगलराज को नकारा

 बिहार में मंगलवार को दूसरे चरण का मतदान 94 सीटों पर हो रहा है. वहीं, तीसरे चरण के चुनाव प्रचार के लिए मंगलवार को पीएम मोदी आज बिहार दौरे पर हैं. इस दौरान नरेंद्र मोदी फारबिसगंज में सभा को संबोधित किया. 

बिहार चुनाव: फारबिसगंज में गरजे PM, बोले- राज्य ने डबल युवराज और जंगलराज को नकारा
पीएम नरेंद्र मोदी ने फारबिसगंज में सभा को संबोधित किया.

पटना: बिहार में मंगलवार को दूसरे चरण का मतदान 94 सीटों पर हो रहा है. वहीं, तीसरे चरण के चुनाव प्रचार के लिए मंगलवार को पीएम मोदी आज बिहार दौरे पर हैं. इस दौरान नरेंद्र मोदी ने फारबिसगंज में सभा को संबोधित किया. पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने सोमवार को ट्वीट कर कहा था, 'बिहार के लोगों से प्रेम, स्नेह और आशीर्वाद पाकर अभिभूत हूं. कल एक बार फिर उनके बीच रहने का सुअवसर मिलेगा. सहरसा और फारबिसगंज (अररिया) की जनसभाओं में उनसे संवाद करूंगा.'

चुनाव आयोग को दी बधाई
पीएम मोदी ने अपने संबोधन के शुरुआत में कोरोना के कठिन समय मे चुनाव कराने के लिए चुनाव आयोग को बधाई दी है. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग ने अपने निष्पक्ष भाव से पूरे विश्व को अचंभित किया है. हमारे सुरक्षा बल के जवान ने जिस मुस्तैदी से लोकतंत्र की रक्षा के लिए दिन रात एक किये हैं उन सभी का अभिनंदन. पहले चरण के मतदान के बाद और दूसरे चरण के रुझान से स्पष्ट है कि बिहार में फिर से एनडीए सरकार बन रही है.

राहुल-तेजस्वी पर तंज
पीएम ने तेजस्वी यादव और राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा कि बिहार के लोगों ने जंगल राज और डबल युवराज को नकारा है. बिहार में एक कहावत है सब कुछ खैनी दु गो भुजा न चबैनी. साथ ही उन्होंने कहा कि आज एनडीए के विरोध में खड़े लोग बिहार को लालच की निगाह से देख रहे हैं. आज बिहार में रंगबाजी और रंगदारी हार रही है और विकास जीत रहा है. बिहार में घोटाला हार रहा है और लोगों का हक़ जीत रहा है.

नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि देश के कई स्थानों पर आज उप-मतदान चल रहे हैं. बिहार में भी कई जगह चुनाव चल रहा है. चुनाव लोकतंत्र का बड़ा उत्सव होता है. इस उत्सव में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेना हर नागरिक की जिम्मेदारी है. यही उज्ज्वल भविष्य की गारंटी भी है.

पुराने दिनों की दिलाई याद
पीएम ने फारबिसगंज में  कहा, 'बिहार वो दिन भूल नहीं सकता, जब चुनाव को इन लोगों ने मजाक बनाकर रख दिया था. इन के लिए चुनाव का मतलब था- चारो तरफ हिंसा, हत्याएं, बूथ कैप्चरिंग. बिहार के गरीबों से इन लोगों ने वोट देने तक का अधिकार छीन रखा था. तब मतदान नहीं होता था, ‘मत छीन लिया जाता था, वोट की लूट’ होती थी, गरीब के हक की लूट होती थी. बिहार में गरीब को सही मायनों में मतदान का अधिकार एनडीए ने दिया है. अगर बिहार में पहले जैसे ही हालात होते, तो सच मानिए, गरीब मां का ये बेटा कभी प्रधानमंत्री नहीं बन पाता, आपका प्रधान सेवक नहीं बन पाता. आज जब गरीब को अपना अधिकार मिला है, तो वो उसने देश की राजनीति की दिशा तय करने की कमान भी खुद संभाल ली है.'

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि बिहार में कहा जाता है- अनकर धन पाईं, त नौ मन तौलाईं. स्वार्थ का भाव ये कि जब दूसरे का पैसा है, तो जितना चाहे खरीदो, क्या फर्क पड़ता है. जब जनता का पैसा है, तो जितना चाहे लूटो. ये लोग जनता के लिए, आपके लिए काम नहीं कर सकते हैं.

कांग्रेस पर साधा निशाना
पीएम ने कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि झूठ बोलकर कांग्रेस ने देश के लोगों के क्या-क्या सपने दिखाए. चुनाव से पहले कहते थे गरीबी हटाएंगे, किसान का कर्जा माफ करेंगे, टैक्स कम करेंगे. बातें बहुत कीं, लेकिन इतिहास गवाह है, दस्तावेज गवाह हैं कि इन्होंने इसमें से एक भी काम नहीं किया, सिर्फ लोगों को गुमराह किया. आज बिहार में परिवारवाद हार रहा है, जनतंत्र फिर जीत रहा है. रंगबाज़ी और रंगदारी हार रही है, विकास फिर जीत रहा है. अहंकार हार रहा है, परिश्रम फिर जीत रहा है. घोटाला हार रहा है, लोगों का हक फिर जीत रहा है.

कुछ लोगों को परेशानी- मोदी क्यों जीतता है
पीएम ने कहा कि कुछ लोगों को ये परेशानी है कि मोदी चुनाव क्यों जीतता है. मोदी चुनाव इसलिए जीतता है क्योंकि माताओं-बहनों की चिंता दूर करने का काम मोदी करता है. इसलिए माताएं मोदी को आशीर्वाद देती रहती हैं. इसलिए ये गरीब का बेटा, गरीबों की सेवा में अपना जीवन खपाता रहता है. गरीब की दिक्कतों को जो समझते हैं, वही गरीब के लिए काम करते हैं. गरीब-गरीब की माला जपते हुए मूर्ख बनाकर अपने महल बनाने वाले, अपने दूर के रिश्तेदारों तक के लिए महल बनाने वाले लोग, आपका दर्द नहीं समझ सकते.