close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना में कूड़े के अंबार को लेकर भड़के विधानसभा में सदस्य, मंत्री को झेलनी पड़ी फजीहत

विधान पार्षद केदार पांडेय राजधानी की सड़कों पर कूड़े का ढेर जमा रखे जाने का मामला उठाया तो मंत्री सुरेश शर्मा ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि नगर निगम की तरफ से लगातार सफाई अभियान चलाया जा रहा है.

पटना में कूड़े के अंबार को लेकर भड़के विधानसभा में सदस्य, मंत्री को झेलनी पड़ी फजीहत
सुरेश शर्मा ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि नगर निगम की तरफ से लगातार सफाई अभियान चलाया जा रहा है.

पटना: बिहार के पटना को भले ही स्मार्ट सिटी बनाने के दावे किए जा रहे हो लेकिन राजधानी की सड़कों पर लगा कूड़े का अंबार सरकार के लिए सरदर्द बन गया है. बिहार विधान परिषद में आज पटना के सड़कों पर कूड़े के अंबार का मामला ऐसा उठा कि मंत्री सुरेश शर्मा को फजीहत झेलना पड़ा. 

विधान पार्षद केदार पांडेय राजधानी की सड़कों पर कूड़े का ढेर जमा रखे जाने का मामला उठाया तो मंत्री सुरेश शर्मा ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि नगर निगम की तरफ से लगातार सफाई अभियान चलाया जा रहा है.

मंत्री सुरेश शर्मा सदन में साफ सफाई अभियान की तस्वीरें दिखाने लगे तो विपक्ष के साथ-साथ सत्ता पक्ष के सदस्यों में भी मंत्री महोदय को घेर लिया और सत्तापक्ष और विपक्ष के कई सदस्यों ने जबाब को गलत ठहरा दिया साथ ही चैलेंज कर दिया कि तस्वीरों की जांच कराई जाए. सदस्यों ने आरोप लगाया कि अधिकारी पूरी तरह से गलत जानकारी दे रहे हैं. सदन को गुमराह कर रहे ऐसे लापरवाह अधिकारियों पर कार्रवाई हो 

वहीं निगम के आयुक्त पर सदन की अवमानना का नोटिस देने की मांग की करने लगे. सदस्यों ने सदन में कहा कि निगम का आयुक्त सदस्यों का फोन तक रिसीव नहीं करते हैं. यह पूरी तरह से सदस्यों का अपमान है इसलिए अधिकारी पर सदन की अवमानना की कार्रवाई होनी चाहिए. 

वही सदन में शोर-शराबे के बीच मंत्री सुरेश शर्मा को जवाब नहीं सूझ रहा था. आखिरकार कार्यकारी सभापति हारून रशीद ने मंत्री सुरेश शर्मा से इस मामले को गंभीरता से लेने को कहा तब जाकर मंत्री ने जांच कराने के साथ ही दोषियों पर करवाई करने का भरोसा दिया 

सवाल की गंभीरता को देखते हुए विधानपरिषद सभापति ने नगर विकास मंत्री को निदेशित किया की यह काफी ज्वलंत मुद्दा है और इसका निदान जरूरी है उन्होंने मंत्री को 26 जुलाई को पूरी रिपोर्ट सदन में प्रस्तुत करने का निदेश दिया तब जाकर हंगामा कर रहे सदस्य शांत हुए.