close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहारः कांग्रेस चुनाव समिति की मीटिंग, बैठक में शामिल सदस्यों ने खुद को बताया उम्मीदवार

पटना में कांग्रेस की चुनाव समिति की बैठक की गई. बैठक के बाद कहा गया कि 17 मार्च को होगा उम्मीदवारों का ऐलान.

बिहारः कांग्रेस चुनाव समिति की मीटिंग, बैठक में शामिल सदस्यों ने खुद को बताया उम्मीदवार
पटना में कांग्रेस चुनाव समिति की बैठक की गई.

पटनाः कांग्रेस पार्टी द्वारा शुक्रवार को चुनाव समिति की बैठक की गई. चुनाव समिति की बैठक में उम्मीदवारों के चुनाव के लिए चर्चा की गई. लेकिन इस बैठक में पहुंचे समिति के ज्यादातर सदस्यों ने खुद को ही उम्मीदवार घोषित कर दिया. हालांकि बैठक के बाद समिति के अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा कि अध्यक्ष राहुल गांधी को कैंडिडेट चयन और सीटों के निर्धारण के लिए अधिकृत किया गया है. 17 मार्च को इसकी विधिवत घोषणा की जाएगी.
 
बिहार कांग्रेस चुनाव समिति की बैठक काफी खास रही. बैठक में शामिल हुए कई सदस्य अपना टिकट कन्फर्म करवाने सदाकत आश्रम पहुंचे. तीन घंटे चली बैठक के बाद अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा कि अध्यक्ष राहुल गांधी को कैंडिडेट चयन और सीट के निर्धारण के लिए अधिकृत कर दिया गया है. राज्य से भेजे गये प्रस्तावों पर अंतिम मुहर राहुल गांधी ही लगाएंगे. वहीं इसकी विधिवत 17 तारीख को की जाएगी.
 
इधर बैठक में शामिल होने पहुंचे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता निखिल कुमार ने औरंगाबाद सीट से दुबारा चुनाव लडने की इच्छा जता दी है. निखिल कुमार ने कहा है कि औरंगाबाद की जनता चाहती है कि वो औरंगाबाद सीट से चुनाव लडें. इसबार का माहौल काफी अलग तरह का है. जिसका फायदा कांग्रेस को मिल सकता है.
 
वहीं पूर्व मंत्री अब्दुल जलील मस्तान ने किसनगंज सीट पर दावा ठोका दिया. मस्तान ने कहा कि दिवंगत सांसद असरारुल हक के परिवार वाले पोलिटिकल लोग नही.  मैंने आलाकमान को अपनी दावेदारी से वाकिफ करा दिया है. मेरे चुनाव लडने पर किसनगंज की सीट पक्की हो जाएगी.
 
बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने भी चुनाव लड़ने की ईक्षा जता दी है. कादरी ने कहा है कि आलाकमान अगर चाहेगा तो आगे भी सेवा करूँगा. चुनाव सभी लडना चाहते हैं. हमारे यहां भी कैंडिडेटों की कमी नहीं है. जिताऊ सीट पर महागठबंधन के उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे. टिकट बंटवारे में जातीय समीकरण का भी ख्याल रखा जाएगा.
 
वहीं, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अनिल शर्मा ने भी कहा कि पार्टी अगर चाहेगी तो वो भी चुनाव लडेंगे. सदाकत आश्रम पहुंची कांग्रेस विधायक भावना झा ने तो मिथिलांचल सीट का समीकरण ही बदल कर रख दिया. भावना झा ने आलाकमान से मधुबनी की सीट से शकील अहमद को लड़ाने की मांग कर दी है. भावना झा ने कहा है कि शकील अहमद मधुबनी सीट के लिए सबसे योग्य कैंडिडेट हैं.

वहीं आरजेडी की ओर से मधुबनी सीट अब्दुल बारी सिद्दीकि की दावेदारी पर भावना झा बोलीं कि सिद्दीकि साहब को दरभंगा से चुनाव लड़ना चाहिए. कीर्ति झा आजाद को दरभंगा सीट जाने के सवाल पर भावना बोलीं की कीर्ति झा आजाद बड़े चेहरे हैं, पूरे बिहार में वो कहीं से भी चुनाव लड़ सकते हैं. बेहतर होगा दरभंगा सीट अब्दुलबारी सिद्दिकी को दे दी जाए. 

मीटिंग के बाद जब शकील अहमद से उनके मधुबनी सीट से चुनाव लड़ने को लेकर सवाल पूछे गए तो उन्होंने साफतौर पर इसे आलाकमान पर निर्भर बताया. शकील अहमद ने कहा है कि सीटों को लेकर फैसला अभी नहीं हुआ है.  
 
कटिहार के कोढ़ा विधानसभा क्षेत्र की विधायक पूनम पासवान सारे दावेदारों से अलग निकलीं. पूनम पासवान ने न केवल अपना बायोडाटा आलाकमान को भेज दिया बल्कि पार्टी के सीनियर लीडरों के बीच भी बायोडाटा बंटवा दिया. पूनम पासवान ने कहा कि मैं हाजीपुर से चुनाव लड़ना चाहती हूं. कटिहार मेरा गृह क्षेत्र है. वहां से मेरी दावेदारी स्वाभाविक है. महागठबंधन में कांग्रेस को 11 सीटें मिली हैं.
 
कुल मिलाकर चुनाव समिति की बैठक दावेदारी की बैठक साबित हुई. बिहार कांग्रेस के अलाकमान इसबात से संतुष्ट थे कि ज्यादातर सीटों पर उम्मीदवारों के नाम फाईनल हो चुके हैं. लेकिन ताजा हालात बता रहे हैं कि कांग्रेस के लिए उम्मीदवारों के नामों की घोषणा भी आसान नहीं दिख रही.