close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सीटों को लेकर महागठबंधन में हलचल तेज, कांग्रेस पर 8 सीट लेने का दवाब बना रहे हैं लालू!

आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव कांग्रेस पर आठ सीट लेने का दबाव बना रहे हैं. लेकिन कांग्रेस 11 से कम सीट पर चुनाव लड़ने को तैयार नहीं.

सीटों को लेकर महागठबंधन में हलचल तेज, कांग्रेस पर 8 सीट लेने का दवाब बना रहे हैं लालू!
आरजेडी कांग्रेस पर 8 सीट लेने का दवाब बना रही है. (फाइल फोटो)

पटनाः बिहार महागठबंधन में सीट शेयरिंग को लेकर आरजेडी और कांग्रेस के बीच मामला सुलझ नहीं रहा है. वहीं, खबर आ रही है कि आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव कांग्रेस पर आठ सीट लेने का दबाव बना रहे हैं. लेकिन कांग्रेस 11 से कम सीट पर चुनाव लड़ने को तैयार नहीं ऐसी खबर मिल रही है. आरजेडी खेमे से निकल कर आ रही खबर ने महागठबंधन में हलचलच तेज कर दी है. अब दिल्ली में महागठबंधन दल की मीटिंग पर लालू यादव के फॉर्मूले पर बात हो सकती है.

सीट शेयरिंग को लेकर कांग्रेस आरजेडी जितना हालात संभालने की कोशिश कर रहे हैं, मामला उतना ही बिगड़ता जा रहा है. नई जानकारी आरजेडी खेमे से निकल कर आ रही है कि लालू प्रसाद यादव सीट शेयरिंग में कांग्रेस पर आठ सीट लेने का दबाव बना रहे हैं. आरजेडी सुप्रीमो कांग्रेस से कुर्बानी देने की अपील कर रहे हैं.

दरअसल, मामला आरजेडी की कुर्बानी से जुडा है. 2014 चुनाव में आरजेडी कांग्रेस और एनसीपी ने साथ मिलकर चुनाव लड़ी थी. आरजेडी ने 27 सीटों पर चुनाव मैदान में उतरी थी. वहीं, कांग्रेस 12 सीटों पर चुनाव लड़ी थी जबकि 1 सीट पर एनसीपी पार्टी ने चुनाव लड़ा था.

सूत्रों की माने, तो आरजेडी 2019 चुनाव 20 सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती है. पार्टी का दावा है कि महागठबंधन के लिए उसने 7 सीटों की कुर्बानी देने का फैसला लिया है. ऐसे में महागठबंधन के दूसरे बड़े सहयोगी दलों के लिए कांग्रेस को भी कुछ सीटों की कुर्बानी देनी चाहिए. यही वजह है कि आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद कांग्रेस पर कुर्बानी देने का दबाव बना रहे हैं. लालू यादव चाहते हैं कि कांग्रेस 4 सीटों की कुर्बानी देते हुए 8 सीटों पर चुनाव लड़े.

लालू यादव चाहते हैं कि कांग्रेस की कुर्बानी दी गई सीटों को महागठबंधन के दूसरे दलों में शेयर किया जाए. लेकिन कांग्रेस 3 फरवरी को पटना के गांधी मैदान में हुई जनसंपर्क रैली से उत्साहित है. पार्टी को लग रहा है कि उसका जनाधार बढ़ गया है. ऐसे में पार्टी को पिछली बार के मुकाबले तीन ज्यादा सीटों (15) पर चुनाव लड़ना चाहिए. 

बहरहाल, सीट शेयरिंग को लेकर दिल्ली में महागठबंधन की बैठक चल रही है. देखना यह है कि लालू यादव के द्वारा जो फॉर्मूला दिया गया है क्या सभी दल उस पर सहमत होंगे या नहीं.