close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सियासी दलों के निशाने पर मीडिया, आरजेडी ने चिट्ठी लिखकर बनाई दूरी

बिहार में नेताओं के टारगेट पर मीडिया आ गयी है. कांग्रेस ने अपनी हार के लिए मीडिया को जिम्मेवार ठहराते हुए एक महीने तक मीडिया का बहिष्कार कर रखा है.

सियासी दलों के निशाने पर मीडिया, आरजेडी ने चिट्ठी लिखकर बनाई दूरी
बिहार के सियासी दल मीडिया को निशाना बना रहे हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

पटनाः बिहार में नेताओं के टारगेट पर मीडिया आ गयी है. कांग्रेस ने अपनी हार के लिए मीडिया को जिम्मेवार ठहराते हुए एक महीने तक मीडिया का बहिष्कार कर रखा है. सीएम नीतीश कुमार भी शुक्रवार को मीडिया पर भड़क गये. वहीं, आरजेडी ने भी अब अपने नेताओं को मीडिया के पैनल डिस्कशन में जाने से रोक दिया है. सवाल ये उठ रहे हैं कि आखिर नेताओं ने मीडिया को अपना टारगेट क्यों बना लिया है.

बिहार के सियासी दलों की टारगेट पर मीडिया आ गयी है. सच दिखाना सियासी दलों को सूट नहीं कर रहा. यही वजह रही कि सियासी दलों ने मीडिया का बहिष्कार कर दिया है. कांग्रेस के बाद आरजेडी ने भी अपने नेताओं को मीडिया के पैनल डिस्कशन में जाने से रोक दिया है. आरजेडी की ओर से बजाप्ता चिट्ठी जारी कर दी गयी है.

प्रधान महासचिव आलोक मेहता की ओर से जारी चिट्ठी में लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव का हवाला देते हुए मीडिया कमिटि भंग किये जाने की घोषणा की गयी है. साथ ही सभी नेताओं, विधायकों और सांसदों को भी विशेष हिदायत देते हुए मीडिया से दूरी बनाए रखने की हिदायत दी गयी है. और ये आदेश तब तक लागू रहेगा जबतक नया आदेश जारी नहीं होता. दरअसल चुनाव के दरम्यान भी तेजस्वी यादव ने अपने नेताओं को मीडिया से दूरी बनाए रखने की हिदायत दी थी. चुनाव में अपनी हार के लिए आरजेडी के नेता मीडिया को जिम्मेवार मानते हैं.

हलांकि इस बाबत जब हमने पूर्व मुख्य प्रवक्ता भाई वीरेन्द्र से बातचीत की तो उन्होंने साफ तौर पर कुछ भी कहने से इन्कार कर दिया. हलांकि उन्होंने ने मीडिया को किसी भी बात के लिए जिम्मेवार मानने से इन्कार किया. लेकिन इतना जरुर कहा कि फैसला पार्टी का है इसपर अध्यक्ष ही कुछ बोल सकते हैं.

वहीं, जेडीयू ने आरजेडी के फैसले पर सवाल उठाए हैं. जेडीयू एमएलसी दिलीप चौधरी ने कहा है कि मीडिया से दूरी बनाने के पीछे आरजेडी की अपनी विफलता है. आरजेडी के पास अब कहने के लिए कुछ नहीं ऐसे में पार्टी के नेता प्रवक्ता किसी हैसियत से मीडिया में जाएंगे बडा सवाल यही है. लोकसभा चुनाव में जनता ने आरजेडी को खारिज कर दिया है. पार्टी सिंगल सीट भी नहीं जीत पायी. वैसे मीडिया में जाने या न जाने से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला.