close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

तेजस्वी यादव ने ट्वीट किए सृजन घोटाले से जुड़े 'सबूत', सुशील मोदी के परिवार को घेरा

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने भी सुशील मोदी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. तेजस्वी ने ट्वीट कर सृजन घोटाले से जुड़े खुलासे का दावा किया है.

तेजस्वी यादव ने ट्वीट किए सृजन घोटाले से जुड़े 'सबूत', सुशील मोदी के परिवार को घेरा
तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर सृजन घोटाले मामले में खुलासा किया है. (फाइल फोटो)

पटनाः बिहार में राजनेता अपने विरोधियों की पोल खोलने में लगे हैं. बुधवार को उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने तेजस्वी यादव के खिलाफ एक नया खुलासा किया, तो गुरुवार को उन्होंने पलटवार किया है. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने सृजन घोटाले से जुड़े दस्तावेज ट्वीट करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर इसमें संलिप्ता के आरोप लगाए हैं.

तेजस्वी यादव ने आरोप दावा किया है कि सृजन घोटाले में सुशील मोदी के रिश्तेदारों की सहभागिता है. तेजस्वी ने ट्विटर के जरिए कुछ दस्तावेजों की कॉपी भी पोस्ट की है. इन दस्तावेजों में सृजन घोटाले में प्रयोग किए गए बैंक अकाउंट के डिटेल दिए गए हैं.

बैंक अकाउंट में घोटाले का पैसा जमा करने का दावा किया गया है. इसमें सुशील मोदी की रिश्तेदार रेखा मोदी और उर्वर्सी मोदी के अकाउंट में पैसों के ट्रांजेक्शन के सबूत पेश किए गए हैं. तेजस्वी ने प्रश्न किया है कि सृजन घोटाले में सीएम नीतीश कुमार और सुशील मोदी का नाम सीधा रूप से जुड़ा है, लेकिन सीबीआई इन लोगों से सवाल क्यों नहीं कर रही है?

तेजस्वी ने ट्वीट में लिखा है कि सरकार के सामने 2500 करोड़ रुपये का सृजन घोटाला हुआ. तो क्या सीएम नीतीश कुमार और वित्त मंत्री सुशील मोदी को इसकी जानकारी नहीं होगी? उन्होंने रिजर्व बैंक और वित्त मंत्रालय में इसकी शिकायत क्यों नहीं की?

तेजस्वी ने आगे लिखा कि 'मेरे पास हर सबूत हैं. मैं साबित कर सकता हूं कि सीएम नीतीश कुमार को घोटाले की जानकारी थी, जिसके बावजूद लूट होती रही और वह आंख बंद किए रहे. इसमें पार्टी के नेता सीधे रूप से जुड़े थे और फंडिंग जारी था.'

तेजस्वी ने ट्वीट पर लिखा है, 'मैं मीडिया हाउस से आग्रह करता हूं कि सृजन घोटाले में भ्रष्टाचार और लूट हुई है. इस बड़े घोटाले में मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, बीजेपी-जेडीयू मंत्री और नेताओं की भागीदारी के सबूत है.'