close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अयोध्या पर मध्यस्थताः गिरिराज सिंह ने कहा- भारत को नहीं बनने देंगे 'गजवा ए हिंद'

गिरिराज सिंह ने कहा राम मंदिर पर फसाद की जड़ कांग्रेस है.

अयोध्या पर मध्यस्थताः गिरिराज सिंह ने कहा- भारत को नहीं बनने देंगे 'गजवा ए हिंद'
गिरिराज सिंह ने राम मंदिर को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः अयोध्या मामले को सुलझाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता का फैसला सुनाया है. कोर्ट के द्वारा कहा गया है कि इस मसले का हल दोनों ही पक्ष मध्यस्थता के जरिए निकाले. इसके लिए कोर्ट ने 3 सदस्यों के पैनल का गठन किया है. वहीं, कोर्ट ने मध्यस्थता के लिए 8 हफ्तों का समय दिया है. साथ ही 4 सप्ताह में पहली रिपोर्ट कोर्ट को देने को कहा गया है.

सुप्रीम कोर्ट के इस एतिहासिक फैसले को काफी लोगों ने सराहना की है. वहीं, कई लोगों ने कहा है कि मध्यस्थता की बात तो पहले भी हो चुकी है. अब कोर्ट ने भी मध्यस्थता का ही फैसला लिया है.

इस मामले में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने हमेशा की तरह राम मंदिर की फसाद के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने कहा कि राम मंदिर पर फसाद की जड़ कांग्रेस है. सिंह ने कहा  अगर 1947 में नेहरू सोमनाथ की तर्ज़ पर कानून लाकर अयोध्या, काशी, मथुरा में मंदिर बना देते तो आज ये विवाद नहीं होता.

गिरिराज सिंह ने कहा कि कांग्रेस अपनी साजिश में कामयाब हो रही है. राम मंदिर को चुनाव तक टलवाने का काम किया जा रहा था. कपिल सिब्बल यही चाहते थे. और उन्होंने चक्रव्यूह रचकर चुनाव तक राम मंदिर को टलवा दिया है.

उन्होंने कहा, मैं राहुल गांधी से पूछना चाहता हूं कि वो आखिर राम मंदिर के मामले पर चुप क्यों बैठे हैं. उन्होंने सवाल किया है कि मुस्लिमों के आराध्य जब मक्का है, इसाइयों का वेटिकन है तो फिर हिदूओं के अराध्य देव पर हंगामा क्यों किया जा रहा है. उन्होंन कहा भारत को हम गजवा ए हिंद नहीं बनने देंगे.

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में मध्यस्थता का फैसला सुनाया है. साथ ही इसे फौरन शुरू करने को कहा गया है. इसे एक हफ्ते के अंदर शुरू कर दिया जाए. वहीं, कोर्ट ने विवाद निपटारे के दौरान मध्यस्थता प्रयासों पर मीडिया रिपोर्टिंग पर बैन लगा दी है.

(इनपुट: विशाल पाणडेय)