close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

खगड़िया में मेडिकल कॉलेज खोलने की मांग को लेकर आंदोलन, 2 अक्टूबर को प्रदर्शन

2 अक्टूबर को शहर के दो मैदान संसारपुर और मथुरापुर मैदान में एक साथ कार्यक्रम होगा, जिसमें हजारों लोगों के शामिल होने की संभावना है.

खगड़िया में मेडिकल कॉलेज खोलने की मांग को लेकर आंदोलन, 2 अक्टूबर को प्रदर्शन
इस अभियान का नाम जय खगड़िया दिया गया है.

खगड़िया: बिहार के खगड़िया जिले में सरकारी मेडिकल कॉलेज खोलने की मांग को लेकर आंदोलन किया जा रहा है. इस आंदोलन का नेतृत्व श्यामलाल नर्सिंग कॉलेज के निदेशक डॉक्टर विवेकानंद कर रहे हैं. आंदोलन को "जय खगड़िया" नाम दिया गया है. डॉक्टर विवेकानंद लगातार लोगों को आंदोलन से जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं. 

2 अक्टूबर को शहर के दो मैदान संसारपुर और मथुरापुर मैदान में एक साथ कार्यक्रम होगा, जिसमें हजारों लोगों के शामिल होने की संभावना है. बिहार में खराब मौसम और बाढ़ के हालातों के बावजूद डॉक्टर विवेकानंद लोगों के बीच जनसंपर्क अभियान चला रहे हैं, साथ ही चर्चित लोक गायक सुनील छैला बिहारी के गाने के माध्यम से भी लोगों को जागरूक कर सत्याग्रह में शामिल होने के लिए प्रेरित किया जा रहा है. वही नुक्कड़ सभा के जरिए भी लोगों को मुहिम से जोड़ने की कोशिश की जा रही है.

डॉक्टर विवेकानंद का कहना है कि पड़ोसी जिले में मेडिकल कॉलेज खोला जा रहा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी हर जिले में मेडिकल कॉलेज खोलने की बात करते हैं, लेकिन खगड़िया को लेकर कोई जनप्रतिनिधि अवाज़ नहीं उठा रहा है, इसलिए ये विरोध प्रदर्शन कर वो अपनी मांग उठा रहे हैं. उन्होंने कहा है कि अगर जिला में मेडिकल कॉलेज बनता है, तो उन्होंने श्यामलाल ट्रस्ट के द्वारा खगड़िया डीएम को 28 एकड़ जमीन उपलब्ध कराने की भी बात कही.

लोगों का मानना है की मेडिकल कॉलेज खुलने से यहां के लोगों को पटना, दिल्ली इलाज के लिए नहीं जाना पड़ेगा. आंदोलन के जरिए वो अपनी बात सरकार तक पहुंचाना चाहते हैं. दो अक्टूबर को आयोजित होने वाले कार्यक्रम में 1 लाख लोगों के शामिल होने का लक्ष्य रखा गया है, लेकिन जिले में 1 लाख लोगों की क्षमता वाला कोई मैदान उपलब्ध नहीं होने के कारण दो मैदानों में दोपहर 1 बजे से 3 बजे तक दो घंटे का सत्याग्रह किया जाना है. 

संसारपुर के मैदान में 60 हजार वहीं मथुरापुर के मैदान में 25 हजार लोगों के पहुंचने की उम्मीद है. लोग अपनी आवाज़ प्रदेश और केंद्र सरकार तक पहुंचाने की कोशिश करेंगे. उनकी मांगों को लेकर सरकार क्या कदम उठाती है इसके लिए थोड़ा इंतजार करना होगा.

-- Saloni Shrivastava, News Desk