विधवा पेंशन के लिए महिला ने लगाई CM से गुहार, सोरेन ने ट्वीट कर दिए जांच के निर्देश

सीएम सोरेन के ट्वीट कर अधिकारी को निर्देश दिए जाने के बाद महिला की समस्या के निदान के कयास लगाए जा रहे हैं. निर्देश के बाद प्रखंड कार्यालय की ओर से प्रक्रिया पूरी की गई.

विधवा पेंशन के लिए महिला ने लगाई CM से गुहार, सोरेन ने ट्वीट कर दिए जांच के निर्देश
विधवा पेंशन के लिए सरकारी कार्यालय के चक्कर काट रही थी महिला, सीएम सोरेन ने ट्वीट कर रामगढ़ डीसी को दिया जांच का निर्देश.

जमशेदपुर: झारखंड के रामगढ़ जिले में सरकारी दफ्तर का चक्कर लगा कर थक चुकी यशोदा की उम्मीदें अब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर है. यही कारण है कि बेतूलकला गांव के निवास करने वाले एक शख्स ने हेमंत सोरेन को ट्विटर के जरिए जानकारी दी कि एक विधवा विगत 15 से 20 वर्षों से सरकारी कार्यालय का चक्कर लगा रही है. मुख्यमंत्री के संज्ञान में मामला आने के बाद रामगढ़ डीसी को मामले की जांच का आदेश दे दिया गया है.

सीएम सोरेन के ट्वीट कर अधिकारी को निर्देश दिए जाने के बाद महिला की समस्या के निदान के कयास लगाए जा रहे हैं. निर्देश के बाद प्रखंड कार्यालय की ओर से प्रक्रिया पूरी की गई. मगर सबसे बड़ी विडंबना वाली बात यह है कि मुख्यमंत्री और डीसी के आदेश के बावजूद भी गोला प्रखंड के वीडियो और सीओ गांव का दौरा किए बगैर कार्यालय से ही पूरी प्रक्रिया को पूरा कर दिया.

सरकारी अधिकारियों की लापरवाही का नतीजा है कि बेतूल कला गांव में तकरीबन सैकड़ों लोग आज वृद्धा और विधवा पेंशन बनाने को लेकर सरकारी दफ्तर का चक्कर काट रहे हैं. इसके बावजूद भी सरकारी अधिकारियों के कान पर जूं तक नहीं रेंग रहा है. मुख्यमंत्री और रामगढ़ उपायुक्त के निर्देश दिए जाने के बावजूद भी गोला प्रखंड के अधिकारी कार्य के प्रति जवाब देते नजर नहीं आ रहे हैं. 

मगर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बनने के बाद यहां के लोगों में एक आशा और उम्मीद जगी है. इस संबंध में एक ग्रामीण महिला बहादुम निशा ने कहा कि मेरा बेटा मुख्यमंत्री बना है. हमें उम्मीद है. इस संबंध में एक व्यक्ति ने कहा कि 10 सालों से सरकारी कार्यालय का चक्कर लगा कर थक चुके हैं. किसी तरह बच्चों की परवरिश कर रहे हैं. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बनने से हमें एक उम्मीद जगी है.

मामले पर मुख्यमंत्री सोरेन ने संज्ञान ले लिया है. अब अधिकारियों का संज्ञान लेना बाकी है.