राहुल गांधी की रैली से गदगद हुई कांग्रेस, महागठबंधन में ठोका सबसे ज्यादा सीटों पर दावा

रामदेव राय ने कहा इंदिरा गांधी के बाद कांग्रेस की बड़ी रैली पटना के गांधी मैदान में हुई. साथ ही कहा कि कांग्रेस के सोए हुए कार्यकर्ता अब जाग चुके हैं या फिर यू कहें कि शेर अब जाग चुका है.

राहुल गांधी की रैली से गदगद हुई कांग्रेस, महागठबंधन में ठोका सबसे ज्यादा सीटों पर दावा
कांग्रेस के दावे को आरजेडी ने किया खारिज. (कांग्रेस विधायक रामदेव राय- फाइल फोटो)

पटना : बिहार में कांग्रेस की रैली का इंपैक्ट दिखने लगा है. रैली की सफलता से कांग्रेस उत्साहित है. पार्टी के वरिष्ठ नेता विधायक रामदेव राय ने बिहार महागठबंधन में बड़े भाई की सीट पर दावा ठोंक दिया है. इतना ही नहीं रामदेव राय ने कहा है कि बड़ा होने के नाते कांग्रेस को ज्यादा सीटें भी मिलनी चाहिए. हलांकि आरजेडी ने कांग्रेस के दावों का दरकिनार करते हुए बिहार में खुद के बड़े होने का एहसास कांग्रेस को करा दिया है.

28 साल बाद पटना में हुई कांग्रेस की रैली कांग्रेसियों के लिए संजीवनी लेकर आयी है. कांग्रेसी रैली से उत्साहित है. दावा है कि इस रैली ने पार्टी की तस्वीर और तकदीर दोनों बदल कर रख दी है. यही वजह है कि पार्टी के नेता अब महागठबंधन में बड़े भाई की सीट पर अपना दावा ठोक रहे हैं. पार्टी के विधायक रामदेव राय ने कहा है कि कांग्रेस अब बड़े भाई की भूमिका में है, खुद तेजस्वी यादव ने भी इस बात को खुले मंच से स्वीकार किया है. ऐसे में महागठबंधन को साथ लेकर चलने की जिम्मेदारी कांग्रेस के ही कंधों पर है.

रामदेव राय ने कहा है कि कांग्रेस को बंटवारे में ज्यादा सीटें मिलनी चाहिए. उन्होंने कहा इंदिरा गांधी के बाद कांग्रेस की बड़ी रैली पटना के गांधी मैदान में हुई. कांग्रेस के सोए हुए कार्यकर्ता अब जाग चुके हैं या फिर यू कहें कि शेर अब जाग चुका है.

वहीं, कांग्रेस के उत्साह से आरजेडी बेखबर नजर आ रही है. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामचन्द्र पूर्वे ने कांग्रेस के दावों को सिरे से खारिज किया है. रामचन्द्र पूर्वे ने कहा है कि कांग्रेस राष्ट्रीय पार्टी है. राष्ट्रीय स्तर पर भले ही कांग्रेस की भूमिका बड़े भाई की हो सकती है, लेकिन बिहार में आरजेडी का जनाधार है. तेजस्वी यादव को लोग नेता के रुप में स्वीकार कर चुके हैं. यही वजह है कि तेजस्वी यादव को दूसरे राज्यों से भी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए निमंत्रण आ रहे हैं.

महागठबंधन में बड़े भाई की भूमिका को लेकर मचे घमासान के बीच बीजेपी ने चुटकी ली है. बीजेपी प्रवक्ता संजय टाईगर ने कहा है कि 28 साल बाद कांग्रेस सदाकत आश्रम से बाहर निकली भी तो रैली सफल नहीं करा सकी. रैली फ्लॉप होने के बाद कांग्रेसी अब तेजस्वी और लालू यादव की पिछलग्गू की ही भूमिका में नजर आएगी.