close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: महागठबंधन में महाभारत जारी, विरोधी छोड़ अपनों से भी घिरी आरेजेडी

 कांग्रेस नेता रवीन्द्र मिश्रा ने कहा है कि बिहार में महागठबंधन ने चुनाव तेजस्वी के नेतृत्व में लड़ा था. ऐसे में तेजस्वी को नैतिक जिम्मेवारी लेते हुए नेतृत्व की कमान किसी दूसरे को सौपनी चाहिए. 

बिहार: महागठबंधन में महाभारत जारी, विरोधी छोड़ अपनों से भी घिरी आरेजेडी
कांग्रेस की ओर से तेजस्वी के नेता प्रतिपक्ष के रुप में पद से इस्तीफे की मांग उठने लगी है.

पटना: लोकसभा चुनाव में हार को लेकर महागठबंधन में महाभारत का दौर जारी है. कांग्रेस की ओर से तेजस्वी यादव के नेता प्रतिपक्ष के रुप में पद से इस्तीफे की मांग उठने लगी है. कांग्रेस नेता रवीन्द्र मिश्रा ने कहा है कि बिहार में महागठबंधन ने चुनाव तेजस्वी के नेतृत्व में लड़ा था. ऐसे में तेजस्वी को नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए नेतृत्व की कमान किसी दूसरे को सौपनी चाहिए. वहीं जेडीयू ने तेजप्रताप को आरजेडी की कमान दिये जाने की वकालत की है.

एक दूसरे पर हार का ठीकरा फोडने के बाद अब कांग्रेस और आरजेडी के बीच इस्तीफे को लेकर रस्साकस्सी शुरू हो चुकी है. पूर्व मंत्री कांग्रेस नेता रवीन्द्र मिश्रा ने तेजस्वी यादव से नेता प्रतिपक्ष के पद से इस्तीफे की मांग कर बिहार के सियासी गलियारे में भूचाल ला दिया है. रवीन्द्र मिश्रा ने कहा है कि बिहार में महागठबंधन ने चुनाव तेजस्वी यादव के नेतृत्व में लड़ा था. महागठबंधन का प्रदर्शन चिंताजनक रहा. नैतिक जिम्मेदारी तेजस्वी की बनती है. अगर तेजस्वी से जिम्मेदारी नहीं संभली तो राज्य ,दल और गठबंधन के हित मे उन्हें इस्तीफा देना चाहिए और पार्टी के सीनियर नेताओं से बातचीत कर कमान किसी दूसरे नेता को सौंपनी चाहिए.

 

इध,र कांग्रेस नेता की तरह ही जेडीयू ने भी तेजस्वी यादव से नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देने की बात कही है. पार्टी के प्रवक्ता सुनील कुमार सिंह ने कहा है कि तेजस्वी को राहुल गांधी और ममता बनर्जी की तरह ही इस्तीफे की पेशकश करनी चाहिए. आरजेडी विधायक दल और नेता प्रतिपक्ष के पद से इस्तीफा देना चाहिए. आरजेडी का अबतक का सबसे खराब प्रदर्शन तेजस्वी के नेतृत्व में हुआ है. साथ ही जेडीयू प्रवक्ता ने कहा है कि तेजप्रताप को आरजेडी की कमान मिलनी चाहिए. तेजप्रताप में जनता से जुड़ने की काबिलयत. तेजप्रताप ने पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र को जिंदा रखा है. पार्टी के बुरे हालात के लिए तेजप्रताप लगातार चेतावनी भी देते रहे थे लेकिन उनकी किसी ने नहीं सुनी. आज परिणाम सबके सामने है. 

चारों ओर से तेजस्वी के इस्तीफे की मांग पर आरजेडी घिरती नजर आ रही है. पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने मामले पर सधी हुई प्रतिक्रिया दी है. शिवानंद तिवारी ने कहा है कि ये हमारी पार्टी का मामला है. किसको नेता रखना है ये हम तय करेंगे. राहुल गांधी, ममता बनर्जी ने भी इस्तीफे की पेशकश पार्टी की बैठक में ही की थी. अभी हमारी बैठक भी नहीं हुई है. हम इन सब मुद्दों पर चर्चा अखबार में नहीं कर सकते. 

ये सभी जानते हैं कि वन मैन शो वाली पार्टी में इस्तीफे की पेशकश महज रस्म अदायगी भर होती है. लेकिन चुनाव से पहले सीट शेयरिंग के मसले पर बिहार में आरजेडी के हाथों घुटने वाले कांग्रेसी हार के बाद आरजेडी को घेरने का कोई मौके नही छोड़ना चाहते. यही वजह है कि पार्टी के सीनियर लीडर निखिल कुमार, सदानंद सिंह, कौकब कादरी के बाद पूर्व मंत्री रविन्द्र मिश्रा ने भी आरजेडी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.